Wednesday , March 29 2017
Home / Delhi News / उर्दू महोत्सव “जशन-ए-रेख़ता” का आयोजन 17 से 19 फ़रवरी के बीच

उर्दू महोत्सव “जशन-ए-रेख़ता” का आयोजन 17 से 19 फ़रवरी के बीच

उर्दू को बचाने और इसे अधिक लोकप्रिय बनाने की एक अनोखी मोहिम का नाम जशन-ए-रेख़ता है। उर्दू दुनिया को मज़बूत कर आम हिंदुस्तानियों और दुनिया भर के उर्दू प्रेमी लोहों के लिए रेख़ता तंज़ीम जशन-ए-रेख़ता का आयोजन करता आरहा है। पिछले तीन साल से क़ामयाबी की बुलंदियों को छु कर चला आ रहा उर्दू महोत्सव जश्न-ए-रेख़्ता का यह तीसरा साल है।

पिछले दोनों सालों में लोगों के उर्दू प्रेम को इस जशन में देखें को मिला था, बच्चे, बूढ़े, तलबा और औरतों की भारी शिरकत ने रेख़ता के जश्न में चार चाँद लगा दिया था। उम्मीद की जा रही है कि पिछले दोनों सालों की तरह इस साल भी उर्दू बिरादरी के मशहूर लेखक, शायर, संगीतकार और कलाकार इस उत्सव में शामिल हो कर उर्दू के इस जश्न को अपनी बुलंदी तक पहुँचने का काम करेंगे।

इस उत्सव में मशहूर शख्सियत, गीतकार गुलज़ार और सरोद के बड़े कलाकार उस्ताद अमजद अली खान के साथ साथ तक़रीबन 100 से ज़्यादा बड़ी हस्तियां उर्दू के अनोखे महोत्सव में उर्दू की बरसों से चली आ रही सहजता को मनाने के लिए शामिल होंगे।

महोत्सव का आयोजन 17 से 19 फ़रवरी तक दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतराष्ट्रीय कला सेंटर में किया जायेगा। एक ख़ास सेशन में गुलज़ार और जाने माने गीतकार जावेद सिद्दीक़ी की बातचीत सुनने का खुशनुमा मौक़ा मिलेगा।

वहीं दूसरी तरफ अन्नू कपूर उर्दू सुरों का मौसम-ए-बहार के साथ हसीन शाम में गर्मजोशी पैदा करेंगे। महोत्सव को और सुंदर और जोशीला बनाने के लिए हंस राज हंस के साथ सूफी शाम का समा बंधेगा और साथ में ध्रुव सांगरी की क़व्वाली से मौसम में रंगीनिया घुलेंगी।

प्राचीन और भूले हुए कुछ रिवाजों पर चर्चा की जायेगी और थिएटर के रूपों पर चर्चा करने के लिए मशहूर अभिनेता सौरभ शुक्ला मौजूद होंगे। प्रसून जोशी बॉलीवुड गीतों में उर्दू की मौजूदगी और किस तरह से इस ज़बान ने उनके सहित्य का दायरा बढ़ाने में उनकी मदद की इसपर चर्चा करेंगे।

वही ज़ावेद सिद्दीक़ी और प्रेम चोपड़ा भावना सोमैया के साथ मिल कर हिंदुस्तानी सिनेमा के विकास में उर्दू के सफर को बयान करेंगे।

इस बेहतरीन, मनोरंजक, खुशनुमा महोत्सव के दरवाज़े सभी जनता के लिए मुफ़्त में खुले हैं

इस उत्सव का आयोजन रेख़्ता संस्था द्वारा किया जाता रहा है। रेख़्ता संस्था द्वारा विश्व की सबसे बड़ी उर्दू साहित्य की ऑनलाइन वेबसाइट rekhta.org भी चलाई जाती है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT