Tuesday , October 24 2017
Home / Delhi News / JNU मामला: रिहाई के बाद कन्हैया का भाषण हमारी जीत का सबूत है: BJP

JNU मामला: रिहाई के बाद कन्हैया का भाषण हमारी जीत का सबूत है: BJP

index

जेएनयू विवाद के तहत जन्मी विचारधारा कि लड़ाई में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली अपनी पार्टी की जीत मान रहे हैं। रविवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय सम्मेलन में बोलते हुए जेटली ने कहा कि उनकी जीत हुई है। जो लोग देश को बांटने के लिए नारे लगा रहे थे, वही लोग अब जेल से निकलने के बाद ‘जय हिंद’ के नारे लगा रहे हैं और तिरंगा लहरा रहे हैं। दरअसल जेल से छूटने के बाद कन्हैया द्वारा दिए गए भाषण को अरुण जेटली अपनी पार्टी की जीत मान रहे हैं।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए जेटली ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का खास नेता ने याकूब मेनन और अफजल गुरु के समर्थन में कार्यक्रम करने वालों और राष्ट्र-विरोधी नारे लगाने वालों के प्रति संवेदना प्रकट की और यह देश का दुर्भाग्य है। शनिवार को युवा मोर्चा सम्मेलन के मौक पर ही बोलते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी कहा था कि राहुल गांधी ने जेएनयू विवाद में आरोपियों का समर्थन किया और इस बात पर पार्टी को शर्म आनी चाहिए। जेटली ने कहा कि 2014 में बीजेपी को मिले बहुमत से साफ़ हो गया था कि जनता कांग्रेस की भ्रष्ट और वंशवादी राजनीति के खिलाफ है।

जेटली का मानना है कि जेहादी और माओवादी समूहों के द्वारा ही याकूब मेनन और अफजल गुरु को समर्थन मिलता रहा है। हमेशा से राष्ट्रवाद की एक विचारधार के साथ सयासी दल जुड़े रहे हैं सिवाय वामपंथ के। जेटली ने वामपंथी दलों को अलोकतांत्रिक भी बताया। इतिहास का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि वामपंथी लोगों ने हमेशा लोकतांत्रिक व्यवस्था को बिगाड़ कर और हिंसा का सहारा लेकर आजादी की मांग की है। उन्होंने नवंबर 25, 1949 को सदन में दिए गए बाबा साहब के भाषण का जिक्र करते हुए कहा कि बाबा साहब का भी यही मानना था कि उनके द्वारा बनाया गया संविधान वामपंथियों के अलावा सभी को मान्य होगा क्योंकि इसका मूल आधार लोकतंत्र है।

इसी मौके पर युवाओं को सम्बोधित करते हुए बीजेपी के युवा सांसद अनुराग ठाकुर ने पार्टी समर्थक युवाओं से पूरे देश में राष्ट्रध्वज को बतौर सूचक इस्तेमाल करते हुए राष्ट्रवाद की विचारधार फैलाने का आह्वाहन भी किया। बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी ने भी रविवार को अपने बयान में जेएनयूएसयू अध्यक्ष कन्हैया को पथभ्रष्ट बताया था। उन्होंने कहा था कि राष्ट्रवाद को ऐसी पथभ्रष्टता के हवाले नहीं किया जा सकता। रूडी ने वामपंथी दलों की आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि वे कन्हैया को हीरो बनाने के लिए मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT