Tuesday , October 24 2017
Home / India / जस्टिस कर्णन नहीं मांगेंगे माफ़ी, मीडिया पर बेबुनियाद ख़बरें चलाने का लगाया आरोप

जस्टिस कर्णन नहीं मांगेंगे माफ़ी, मीडिया पर बेबुनियाद ख़बरें चलाने का लगाया आरोप

नई दिल्ली: जस्टिस कर्णन ने माफी मांगने से इंकार कर दिया है। साथ ही कर्णन के वकील मैथ्यू नेदुम्पारा ने शनिवार को एक बयान जारी कर मीडिया पर गलत खबरें दिखाने का आरोप लगाया है। जस्टिस कर्णन के वकील ने कहा कि माफी का सवाल ही नहीं उठता है। उन्होंने कहा कि मीडिया द्वारा बेबुनियाद खबरें चलाई जा रही हैं।

शनिवार को मीडिया ने एक खबर प्रकाशित की थी जिसमें कहा गया कि जस्टिस कर्णन के वकील मैथ्यू नेदुम्पारा ने सुप्रीम कोर्ट से उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग की।

खबर में दिखाया गया कि जस्टिस कर्णन के वकील ने कहा कि हम माफी मांगना चाह रहे हैं लेकिन कोर्ट की रजिस्ट्री हमारी याचिका को स्वीकार नहीं कर रहा है।

जस्टिस कर्णन पर नौ मई को सात सदस्यीय जजों की पीठ ने अवमानना का दोषी ठहराते हुए छह महीने कैद की सजा सुनाई है। इसके खिलाफ जस्टिस कर्णन ने न्यायालय की अवमानना अधिनियम की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी थी।

उन्होंने कहा था कि उनके खिलाफ अवमानना की कार्यवाही नहीं चलाई जा सकती। संविधान के तहत हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट के अधीन नहीं है, बल्कि सुप्रीम कोर्ट की तरह हाईकोर्ट भी अपने आप में स्वतंत्र है।

जस्टिस कर्णन ने 20 जजों के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। इसी के बाद सुप्रीम कोर्ट ने कर्णन के खिलाफ अवमानना का मामला दर्ज किया था। 9 मई को कर्णन को भारत के चीफ जस्टिस समेत शीर्ष न्यायालय के न्यायाधीशों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाने के मामले में अवमानना का दोषी ठहराया गया।

TOPPOPULARRECENT