Friday , August 18 2017
Home / Kashmir / कश्मीर: मुसलमानों ने किया पंडित महिला का अंतिम संस्कार

कश्मीर: मुसलमानों ने किया पंडित महिला का अंतिम संस्कार

श्रीनगर। कश्मीरी मुसलमानों ने एक बार फिर धार्मिक सद्भाव, भाईचारे, इंसानियत और कश्मीरियत की उम्दा मिसाल कायम की है, खबर के अनुसार इन्होने एक स्थानीय महिला पंडित की अंतिम संस्कार का प्रबंधन खुद किया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ नेटवर्क समूह न्यूज़ 18 के अनुसार दक्षिण कश्मीर के जिला शोपियां के तरापुडपूरा नामक गांव के तरेलुकी नाथ वांगो का परिवार उन सैकड़ों कश्मीरी पंडित के परिवारों की तरह है, जो पिछले तीन दशकों से न गवार हालात में भी कश्मीर में ही रह रहे हैं, और अपने पड़ोसी मुस्लिम समुदाय के दुख सुख में शामिल रहते हैं।

सोमवार तरेलुकी नाथ की पत्नी का लंबी बीमारी के बाद निधन हुआ तो करीब तीन सौ स्थानीय मुसलमानों ने नम आंखों से उनके अंतिम संस्कार का पूरा प्रबंधन खुद किया। एक स्थानीय अंग्रेजी दैनिक ने अपनी एक खबर में कहा है कि शोपियां के तरापूडपूरा में जब सोमवार को तरेलुकी नाथ की पत्नी प्यारी वांगो का निधन हुआ तो करीब तीन सौ स्थानीय मुसलमानों ने न केवल उनका अंतिम संस्कार किया, बल्कि उनकी अर्थी को अपने कंधों पर लेने के अलावा चिता को आग लगाने के लिए आवश्यक लकड़ी और अन्य चीजें प्रदान कीं।

अखबार ने अपनी खबर में स्वर्गीय प्यारी वांगो के एक करीबी रिश्तेदार भूषण लाल के हवाले से कहा है, कि “हम अपने मुस्लिम पड़ोसियों का बहुत आभारी हैं, जो हर समय हमारे दुख सुख में शामिल रहते हैं ‘। भूषण लाल ने कहा है कि ‘वह (मुस्लिम पड़ोसी) हर समय मदद करते हैं, वह हमारे भाई जैसे हैं। हमें कभी यह महसूस नहीं हुआ कि हम अल्पसंख्यक हैं। हम यहाँ अपने मुस्लिम पड़ोसियों के साथ प्यार, भाईचारे और सद्भाव के साथ रहते हैं ‘।

अखबार ने अपनी खबर में फ़य्याज़ अहमद नामक एक स्थानीय नागरिक के हवाले से कहा है कि ‘यहाँ केवल तीन पंडित परिवार रहते हैं जबकि बाकी अन्य 1989 में पलायन करके चले गए। हम उनके हर दुख सुख में शामिल रहते हैं ‘।

गौरतलब है कि कश्मीर में यह पहला मौका नहीं है कि जब कश्मीरी मुसलमानों ने किसी पंडित या हिन्दू का अंतिम संस्कार अंजाम दिया है। 22 दिसंबर 2016 को दक्षिण जिला कुलगाम के काजी गंड में स्थानीय मुस्लिम समुदाय ने महाराज नामक कश्मीरी पंडित का अंतीम संस्कार किया था। 15 जुलाई 2016 को के महाराजगंज में स्थानीय मुसलमानों ने एक कश्मीरी महिला पंडित का अंतिम संस्कार किया था। 14 मई 2016 को कश्मीरी मुसलमानों ने गांदरबल के अवतार कृष्ण का अंतिम संस्कार किया था। ऐसे कई सारे उदाहरण आपको मिल जायेंगे.

TOPPOPULARRECENT