Sunday , September 24 2017
Home / India / केरला: 100 मुस्लिम लड़कियों ने खाई कसम, नहीं करेंगे बाल विवाह

केरला: 100 मुस्लिम लड़कियों ने खाई कसम, नहीं करेंगे बाल विवाह

To go with 'Pakistan-unrest-women-marriages-Children-social, FEATURE' by Khurram SHAHZAD In this photograph taken on December 12, 2013 young Pakistani girl Saneeda, who escaped a forced marriage under a local custom of Swara, plays a local game in the Madyan valley of Swat, in the country's northwest. One sunny afternoon as she skipped home from school, Saneeda was accosted by her estranged father, who wanted to marry her to a man she'd never met to settle a debt of "honour". She was five years old. Offering young girls as brides in compensation to settle disputes persists in many areas of deeply conservative Pakistan. AFP PHOTO/Aamir QURESHI

मल्लाप्पुरम। कई लड़कियां स्थानीय आंगनवाड़ी में एकमात्र उद्देश्य से जमा हुई थी कि वे अपने बचपन का आनंद लेना चाहते हैं। उनमें से कोई भी बालिग़ होने से पहले शादी नहीं करना चाहती थी। अंत में, उन्होंने बाल विवाह के खिलाफ अभियान में शामिल होने का निर्णय लिया।

इन लड़कियों में ज्यादातर मुस्लिम हैं जिन्होंने न केवल बाल विवाह के प्रति स्वयं की रक्षा करने का वचन दिया बल्कि बाल विवाह के प्रभाव पर जागरूकता फैलाने की कसम ली। बाल विवाह के खिलाफ लड़ने के लिए मल्लाप्पुरम में कलिकवू से 100 से अधिक मुस्लिम लड़कियां एक साथ हाथ मिलाकर सामने आईं।

जिला बाल संरक्षण इकाई द्वारा आयोजित बैठक के बाद पाया गया कि इस क्षेत्र में बाल विवाह बहुत आम है। अदालत के हस्तक्षेप से इस साल अप्रैल में कलिकवू ब्लॉक में 26 विवाह को रोकने में मदद मिली। इसके अलावा बाल विवाह निवारण अधिकारी ने पिछले दो महीनों में चार विवाह रोके हैं।

TOPPOPULARRECENT