Thursday , October 19 2017
Home / Featured News / बर्थडे स्पेशल: मनमोहन सिंह ने कभी ग़रीबी का ढिंढोरा नहीं पीटा, जानें उनके बारे में कुछ ख़ास बातें

बर्थडे स्पेशल: मनमोहन सिंह ने कभी ग़रीबी का ढिंढोरा नहीं पीटा, जानें उनके बारे में कुछ ख़ास बातें

देश में पंडित नेहरु के बाद सबसे ज्यादा समय टका लगातार यानि सत्तर साल में से पूरे दस साल प्रधान मंत्री रहे सरदार मनमोहन सिंह का जन्मदिन है। मनमोहन सिंह का जन्म अखंड भारत के पंजाब प्रान्त (वर्तमान पाकिस्तान) स्थित गाह में 26 सितम्बर, 1932 को एक सिख परिवार में हुआ था। उनकी माता का नाम अमृत कौर और पिता का नाम गुरुमुख सिंह था। छोटी उम्र में ही उनकी माता का निधन हो गया और इसलिए उनकी दादी ने उनका पालन-पोषण किया। बचपन से ही उन्हें पढाई में रूचि थी और वह कक्षा में अक्सर अव्वल आते थे।

वे बेहद गरीब परिवार से थे और वास्तव में स्ट्रीट लाईट के नीचे बैठ कर पढाई करते थे, देश के विभाजन के बाद उनका का परिवार अमृतसर चला आया। यहाँ पर उन्होंने हिन्दू कॉलेज में दाखिला लिया। मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़, से अर्थशास्त्र में स्नातक की पढ़ाई की। बाद में वे कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय गए जहाँ उन्हने स्नातकोत्तर स्तर की पढ़ाई पूरी की।

मनमोहन सिंह ने 1962 में न्यूफील्ड कॉलेज,ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी से डी.फिल किया। 1964 में उन्होंने “इंडिया एक्सपोर्ट ट्रेंड एंड प्रॉस्पेक्टस फॉर सेल्फ ससटेंड ग्रोथ” नाम से पुस्तक लिखी जिसे क्लेरेंडॉन प्रेस ने प्रकाशित की। मनमोहनजी पंजाब यूनिवर्सिटी में वर्षो तक शैक्षणिक प्रत्यायक के रूप में चमकते रहे।

एक संक्षिप्त कार्यकाल में UNCTAD सचिवालय के रूप में अच्छी तरह से इन वर्षो में दिल्ही स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में प्रतिष्ठित हुए। 1987 से 1990 के बिच में उन्हें जिनेवा में सेक्रेटरी जेनरल ऑफ़ साउथ कमिशन के पद के लिए नियुक्त किया गया।

1971 में भारत सरकार द्बारा मनमोहन सिंह जी को आर्थिक सलाहकर वाणिज्य मंत्रालय के लिए नियुक्त किये गए, इसको देखते हुए 1972 में उन्हें मुख्य सलाहकार, वित्त मंत्रालय में नियुक्त किया। इनकी नियुक्ति बहुत से पदों के लिए हुई जैसे की वित्तमंत्री, उपसभापति, योजन मंत्री, रिजर्व बैंक के गवर्नर के रूप में, प्रधानमंत्री के सलाह कार के रूप में।

1991 से 1996 के बीच पाच वित्त मंत्रीयो ने मिलकर आर्थिक मंदी हटाकर भारत को पुनः स्थापीत किया। इन्होने भारत के लिये आर्थिक योजना बनाई जो पूरे विश्व में मान्य है। उन्होंने अपने कार्यालय के दौरान अपने सहयोग से विकट परिस्थितियों से भारत को निकाला था।

  • पंकज चतुर्वेदी 

 

TOPPOPULARRECENT