Friday , August 18 2017
Home / Khaas Khabar / शर्मनाक : पारंपरिक कपड़े पहने नार्थ ईस्ट की महिला को नौकरानी बताकर क्लब से बाहर निकाला

शर्मनाक : पारंपरिक कपड़े पहने नार्थ ईस्ट की महिला को नौकरानी बताकर क्लब से बाहर निकाला

देश की राजधानी दिल्ली में एक बार फिर पूर्वोत्तर की महिला से भेदभाव का मामला सामने आया है। दिल्ली गोल्फ क्लब से मेघालय की एक महिला को सिर्फ इसलिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि वह मेघालय के पारंपरिक खासी परिधान में वहां पहुंची थी।

टेलिन लिंगदोह नाम की यह महिला असम सरकार में हेल्थ अडवाइजर डॉक्टर निवेदिता के बेटे की देखभाल करती हैं । लिंगदोह भी उन 8 मेहमानों में शामिल थीं जिन्हें क्लब के लंबे समय से सदस्य रहे पी तिमैया ने आमंत्रण दिया था।देश की राजधानी दिल्ली में एक बार फिर पूर्वोत्तर की महिला से भेदभाव का मामला सामने आया है। दिल्ली गोल्फ क्लब से मेघालय की एक महिला को सिर्फ इसलिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि वह मेघालय के पारंपरिक खासी परिधान में वहां पहुंची थी।

टेलिन लिंगदोह नाम की यह महिला असम सरकार में हेल्थ अडवाइजर डॉक्टर निवेदिता के बेटे की देखभाल करती हैं । लिंगदोह भी उन 8 मेहमानों में शामिल थीं जिन्हें क्लब के लंबे समय से सदस्य रहे पी तिमैया ने आमंत्रण दिया था। लिंगदोह जैन्सम पहन कर क्लब पहुंची थीं।

डॉक्टर निवेदिता ने बताया, ‘हमें पहुंचे 10-15 मिनट हुए थे, तभी मैनेजर अजीत पाल और सुमिता ठाकुर नाम की महिला ने लिंगदोह को टेबल से उठकर कमरे से बाहर जाने को कहा। मैंने उनसे कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि लिंगदोह नौकरानी की तरह दिख रही है।

मैंने उनसे पूछा कि उन्होंने यह निष्कर्ष कैसे निकाला। उन्होंने जवाब दिया कि लिंगदोह अलग दिख रही है, उसने नौकरों की तरह कपड़े पहने हैं और वह नेपाली दिखती है। यह बहुत अपमानजनक था। मैं इस तरह के भेदभाव को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थी।’

डॉक्टर निवेदिता ने बताया, ‘मैंने इसका विरोध किया क्योंकि वे एक भारतीय नागरिक के पारंपरिक परिधान की बेइज्जती कर रहे थे। मैंने यह भी कहा कि लिंगदोह क्या करती हैं यह मायने नहीं रखता क्योंकि उन्हें यहां के ही एक सदस्य ने आमंत्रित किया है। लेकिन वहां खड़े किसी भी शख्स ने इस मामले में हस्तक्षेप नहीं किया।’

लिंगदोह ने कहाकि , ‘वह जेन्सम पहन कर लंदन और यूएई भी गई हैं लेकिन वहां उन्हें इस तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। बल्कि वहां लोगों ने जेन्सम की तारीफ की। लेकिन भारत में, मुझे दिल्ली गोल्फ क्लब से बाहर जाने के लिए कह दिया गया क्योंकि वे हमारी संस्कृति, परंपरा के बारे में नहीं जानते।’

मामले में दिल्ली गोल्फ क्लब ने माफी मांगी है। क्लब की तरफ से आए बयान में कहा गया है कि इस मामले को बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था। मेहमान को बाहर निकलने के लिए नहीं कहा जाना चाहिए था। क्लब ने कहा कि इस संबंध में स्टाफ से जवाब मांगा गया है और कार्रवाई भी प्रक्रिया में है। लिंगदोह जैन्सम पहन कर क्लब पहुंची थीं।

डॉक्टर निवेदिता ने बताया, ‘हमें पहुंचे 10-15 मिनट हुए थे, तभी मैनेजर अजीत पाल और सुमिता ठाकुर नाम की महिला ने लिंगदोह को टेबल से उठकर कमरे से बाहर जाने को कहा। मैंने उनसे कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि लिंगदोह नौकरानी की तरह दिख रही है।

मैंने उनसे पूछा कि उन्होंने यह निष्कर्ष कैसे निकाला। उन्होंने जवाब दिया कि लिंगदोह अलग दिख रही है, उसने नौकरों की तरह कपड़े पहने हैं और वह नेपाली दिखती है। यह बहुत अपमानजनक था। मैं इस तरह के भेदभाव को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थी।’

डॉक्टर निवेदिता ने बताया, ‘मैंने इसका विरोध किया क्योंकि वे एक भारतीय नागरिक के पारंपरिक परिधान की बेइज्जती कर रहे थे। मैंने यह भी कहा कि लिंगदोह क्या करती हैं यह मायने नहीं रखता क्योंकि उन्हें यहां के ही एक सदस्य ने आमंत्रित किया है। लेकिन वहां खड़े किसी भी शख्स ने इस मामले में हस्तक्षेप नहीं किया।’

लिंगदोह ने कहाकि , ‘वह जेन्सम पहन कर लंदन और यूएई भी गई हैं लेकिन वहां उन्हें इस तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। बल्कि वहां लोगों ने जेन्सम की तारीफ की। लेकिन भारत में, मुझे दिल्ली गोल्फ क्लब से बाहर जाने के लिए कह दिया गया क्योंकि वे हमारी संस्कृति, परंपरा के बारे में नहीं जानते।’

मामले में दिल्ली गोल्फ क्लब ने माफी मांगी है। क्लब की तरफ से आए बयान में कहा गया है कि इस मामले को बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था। मेहमान को बाहर निकलने के लिए नहीं कहा जाना चाहिए था। क्लब ने कहा कि इस संबंध में स्टाफ से जवाब मांगा गया है और कार्रवाई भी प्रक्रिया में है।

TOPPOPULARRECENT