Thursday , June 22 2017
Home / Delhi / Mumbai / गरीबों की दिल की बीमारी के मुफ़्त इलाज के लिए डॉ ज़ैनुल ने रमज़ान में जुटाया 3.27 करोड़ रुपए

गरीबों की दिल की बीमारी के मुफ़्त इलाज के लिए डॉ ज़ैनुल ने रमज़ान में जुटाया 3.27 करोड़ रुपए

आज आपको मिलवाते हैं मुंबई कार्डियक सर्जन जैनुल हमदुलय से। जो परेल के ग्लोबल अस्पताल में कार्डियोथोरेसिक और संवहनी सर्जरी के डायरेक्टर हैं। रमजान के महीने में गरीबों को फ्री में दिल का इलाज करने की योजना बना रहे हैं। इसके लिए उन्होंने 3.27 करोड़ रुपए जुटा रहे हैं। ये इलाज उन जरूरतमंदों के लिए होगा जो इलाज के लिए लाखों का खर्च नहीं उठा सकते हैं।

डॉ हमदुलय ने ये कदम उठाकर इस बात को साबित कर दिखाया है कि इंसानियत अब भी जिंदा है। वह 100 बाईपास सर्जरी, 100 एंजियोप्लास्टी, और 500 एंजियोग्राफी को निधि देने की योजना बना रहे हैं।

डॉक्टर ने बताया कि “बाजार पर सर्वोत्तम स्टेंटों का इस्तेमाल करके एंजियोप्लास्टी की लागत एक लाख तक बढ़ जाती है। एक बाईपास पर 2 लाख रुपए खर्च आता है और एंजियोग्राफी की लागत करीब 15,000 रुपए है।

डॉ हमदुलय कहते हैं कि हमने इलाज के लिए भारत की सबसे बड़ी जमावानी साइट मिलाप पर पैसे जुटाने के लिए करार कर लिया है। ताकि वंचित व्यक्तियों या गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को मुक्त इलाज मिल सके।

डॉ हमदुलय ने बताया कि वो पहली बार इस तरह की बड़ी राशि को जुटाने का प्रयास कर रहे हैं। अब तक, फाउंडेशन ने 17 दिनों से 5 लाख रुपए जुटाए हैं। दान 500 रुपये से लेकर 10,000 रुपए तक है “जैसा कि यह रमजान है। दान देने वालों में से अधिकांश मुसलमान हैं जो हमारा सहयोग कर रहे हैं।

डॉ हमदुलय ने बताया कि प्रक्रिया कैसे काम करती है। लोगों को उनके दिल की बीमारियों के लिए सब्सिडी मिलती है। जिन लोगों को एंजियोप्लास्टी या एंजियोग्राफी की जरूरत होती है उन्हें डोंगरी में हबीब अस्पताल में भेजा जाता है, जहां फाउंडेशन ने कैथ लैब की स्थापना की है।

निदान इमेजिंग उपकरण के साथ एक परीक्षा कक्ष लगाया गया है जो डॉक्टरों को दिल की धमनियों और कक्षों को देखने में मदद करता है। जिन लोगों को बाईपास की ज़रूरत होती है उन्हें ग्लोबल अस्पताल भेजा जाता है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT