Thursday , July 27 2017
Home / Khaas Khabar / भारत के 58 फीसदी बच्चे खून की कमी के शिकार हैं: हेल्थ सर्वे

भारत के 58 फीसदी बच्चे खून की कमी के शिकार हैं: हेल्थ सर्वे

भारत में रहने वाले पांच साल से नीचे के 58 फीसदी से ज्यादा बच्चे एनीमिया यानी खून की कमी के शिकार हैं। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे ने यह रिपोर्ट जारी की है।  2015-16 के ये आंकड़े बताते हैं कि भारत के 7 करोड़ यानी 58 फीसदी से भी अधिक बच्चे एनीमिया से पीड़ित है।

इस सर्वे में ये बात भी से सामने आई है कि 7 करोड़ एनीमिक बच्चों में से पांच करोड़ बच्चों का शारीरिक विकास भी सही से नहीं हो पा रहा है। इसके अलावा इनमें से कई बच्चों का वजन उनकी लंबाई के अनुपात से कम था, तो कई का उम्र के लिहाज से लंबाई और वजन दोनों में कमी पाई गई।

बता दें कि एनीमिक बीमारी की उस अवस्था को कहते हैं जिसमें खून में हीमोग्लोबिन का स्तर औसत से कम हो जाता है। ऐसी सूरत में खून में ऑक्सीजन कम घुलता है और पर्याप्त ऑक्सीजन न मिलने की वजह बच्चे जल्दी थक जाते हैं और बच्चों को संक्रमण होने लगता जिसके चलते वे बीमार रहने लगते हैं। इससे उनके दिमाग के विकास पर भी असर पड़ता है।

गौरतलब है कि भारत में स्वास्थ्य सेवा पर देश की कुल जीडीपी का एक फीसदी से कुछ अधिक हिस्सा खर्च होता है। हालांकि विश्व के दूसरे देशों में यह खर्च औसतन छह फीसदी के आसपास है। पिछले सर्वे से तुलना किया जाए तो ज्यादातर बच्चे इम्युनाइजेशन कवरेज के दायरे में आए हैं और महिलाओं में जागरूकता आने के चलते बच्चों की सेहत में सुधार हुआ है।

TOPPOPULARRECENT