Sunday , May 28 2017
Home / India / फोरेंसिक रिपोर्ट मे ख़ुलासा- होटल रब्बानी में परोसा गया था चिकन, गौरक्षकों ने बताया था बीफ़

फोरेंसिक रिपोर्ट मे ख़ुलासा- होटल रब्बानी में परोसा गया था चिकन, गौरक्षकों ने बताया था बीफ़

19 मार्च को जयपुर के हयात रब्बानी होटल से जब्त किए गए मांस को जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा गया था। अब जांच की रिपोर्ट आ गई है जिसमे यह साफ़ हो गया है कि वह मांस बीफ़ का नहीं, बल्कि चिकन का था।

रिपोर्ट आने के बाद होटल मालिक नईम रब्बनी ने कहा, मैं तो पहले दिन से ही कह रहा हूँ कि मेरे यहां से लिया गया मांस बीफ नहीं बल्कि चिकन था, लेकिन पुलिस और प्रशासन ने मेरी एक नहीं सुनी। उसी दिन से उनका होटल सील है।

राजस्थान पुलिस के डिप्टी कमिशनर अशोक गुप्ता ने हिन्दुस्तान टाइम्स को बताया कि रब्बनी होटल से बरामद मांस को जांच के लिए फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी भेजा गया था। अब जांच रिपोर्ट के मुताबिक वह बीफ नहीं था।

बता दें कि 19 मार्च को देर रात गौरक्षकाेें ने रब्बानी होटल पर धावा बाेेेलकर गोमांस परोसने का आरोप लगाया था। इसके बाद नगर निगम ने होटल सील कर दिया था।

होटल के मालिक नईम रब्बानी का कहना है कि जिला और सत्र अदालत ने 29 अप्रैल को सात दिनों के भीतर उनका होटल की सील खोलने केे निर्देश नगर निगम को दिए थे। लेकिन आज तक इस आदेश का पालन नहीं हुआ है।

अदालत के आदेश को लेकर कई दिनों से वह नगर निगम के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन होटल की सील नहीं खोली गई।

रब्बानी कहते हैं, मुझे लाखों रुपयों का नुकसान उठाना पड़ रहा है। जो लोग होटल में काम करते हैं वे भी बेरोजगार हैं। यह कई परिवारों की रोजी-रोटी का सवाल है।’

उधर, जयपुर नगर निगम के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें अदालत के आदेश की एक प्रति प्राप्त नहीं हुई है। नगर निगम के डिप्टी कमिश्नर सोहनलाल ने मंगलवार को मीडिया से कहा, मैं छुट्टी पर था और अगर कोई आदेश है तो अदालत ने जो कुछ भी कहा है, हम उसका पालन करेंगे।

लेकिन रब्बानी ने दावा किया कि अदालत के आदेश की कॉपी खुद उन्होंने सोहनलाल को दी थी। उनके पास इसकी रिसीविंग भी है। इसलिए यह गलत है कि जेएमसी के पास आदेश की प्रति नहीं है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT