Wednesday , July 26 2017
Home / India / RSS ने माना, मनुस्मृति में दलित और महिला विरोधी बातें

RSS ने माना, मनुस्मृति में दलित और महिला विरोधी बातें

आरएसएस की सांस्कृतिक सहयोगी संगठन संस्कार भारती के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि वह हिंदुओं की संस्कृतियों को संस्कृति मंत्रालय से जोड़ने की योजना बना रहे है जो कि प्राचीन ग्रंथों में बताया गया है।

उन्होने अंग्रेजी समाचार पत्र द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार वह मनुस्मृति की उन गलतियों को भी सुधारेंगे जिसमें दलितों व महिलाओं के खिलाफ बातें लिखी गई हैं।

संस्कार भारती के के संयुक्त सचिव अमीर चंद के मुताबिक संघ का मानना है कि लोगों को कला-प्रदर्शन और जागरुकता कार्यक्रमों जैसे सेमिनार आदि के माध्यम से हमारे ग्रंथों के बारे शिक्षित किया जाना चाहिए ताकि वह हमारे ग्रंथों को स्वीकार कर सकें।

 

उन्होने कहा, हम मनुस्मृति से उन कई हिस्सों को हटाने पर चर्चा कर रहे हैं जो दलित व महिला विरोधी हैं और हिंदू शास्त्रों के खिलाफ अक्सर उद्धृत किए जाते हैं।
चंद ने कहा, मनुस्मृति में कुछ संदर्भ हैं जहां कुछ आपत्तिजनक चीजों का उल्लेख किया गया है। इसे हटाया जाना चाहिए। हम उसका समर्थन नहीं करते। मनुस्मृति को हमें आज के संदर्भ में देखना होगा।

जब केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा से संपर्क किया तो उन्होने कहा, हमें ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं मिला है। हम इसे प्राप्त करने के बाद संज्ञान में ले लेंगे। चंद के अनुसार मनुस्मृति पर नया शोध शुरु किया जाना चाहिए।

TOPPOPULARRECENT