Thursday , July 27 2017
Home / Khaas Khabar / UP- मॉब लिंचिंग और नफ़रत की राजनीति के ख़िलाफ़ मऊ की सड़कों पर उतरा जनसैलाब

UP- मॉब लिंचिंग और नफ़रत की राजनीति के ख़िलाफ़ मऊ की सड़कों पर उतरा जनसैलाब

मॉब लिंचिंग और गौरक्षा के नाम पर की जा रही हत्याओं के खिलाफ़ में उत्तर प्रदेश मऊ में हज़ारों लोगों ने प्रदर्शन किया । मऊ नागरिक मंच ने इस प्रदर्शन का आयोजन किया था जिसमें किसी भी तरह की हिंसा और नफ़रत की राजनीति के ख़िलाफ़ सभी धर्मों के हजारों लोग सड़कों पर उतरे ।

धरने की अध्यक्षता करते हुए पूर्व विधायक इम्तेयाज अहमद ने कहा कि आज हमारे देश में गोरक्षा के नाम पर बेकसूर मुसलमानों की हत्या की जा रही है, दलितों पर अत्याचार हो रहे हैं । उन्होंने कहा कि देश की अखण्डता, संप्रभुता और गंगा-जुमनी तहज़ीब की रक्षा करना देश के हर नागरिक का कर्तव्य है।

 

‘‘मऊ नागरिक मंच’’ के संरक्षक मुफ्ती अनवर अली ने कहा कि इस समय पूरे देश के सेक्युलर लोग फिक्रमंद हैं कि देश में संविधान कायम रहेगा या नहीं। उन्होंने कहा कि रमज़ान के महीने में मऊ के नसीरपुर में हुई घटना ने पूरे मऊ को स्तब्ध कर दिया।

बिना किसी रंजिश के नसीरपुर में एक बेगुनाह मुसलमान को मारना मऊ की एकता पर चोट करने जैसा था। इस घटना के बाद हमने ‘‘मऊ नागरिक मंच’’ की स्थापना की। ’’मऊ नागरिक मंच’’ की स्थापना हमने इसलिये की ताकि हम सभी धर्मों के लोग एक साथ मिलकर मुल्क के संविधान की रक्षा के लिये एक साथ आयें।

 

मुफ्ती अनवर अली ने बीते दिनों अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले की कड़े शब्दों में निंदा की और कहा कि यह हमला आतंकियों की कायरता का परिचय देता है और हम इसकी कड़े शब्दों में निंदा करते हैं।

मौलाना अब्दुल हमीद फैजी ने कहा कि हम इस धरने के माध्यम से चाहते हैं कि इस नफरत की राजनीति और मासूमों की हो रही हत्याओं को तत्काल रोका जाये। व्यापार मण्डल के जिलाध्यक्ष उमाशंकर उमर ने कहा कि हमारे देश के प्रधानमंत्री पाकिस्तान को हमारा सबसे बड़ा दुश्मन बताते हैं लेकिन जा कर पाकिस्तान में दावतें खा रहे हैं।

 

कांग्रेस पार्टी के राष्ट्र कुंवर सिंह व अबु बकर अंसारी ने कहा कि हम कांग्रेस पार्टी के लोग ‘मऊ नागरिक मंच’ का पूरा समर्थन करते हैं और चाहते हैं कि पूरे देश में इसी प्रकार शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर के बेकुसूरों की हत्याओं का विरोध किया जाये।

धरने का संचालन करते हुए कामरेड वीरेन्द्र कुमार ने कहा कि यह देश सहमति से चलेगा। मैं देश के प्रधानमंत्री से कहना चाहता हुं कि सभी धर्मों के लोगों को साथ लेकर चलें।

 

TOPPOPULARRECENT