Tuesday , September 26 2017
Home / Delhi News / पाकिस्तान के लिए जान देने वाले हिंदू सैनिक की कहानी सोशल मीडिया पर वायरल

पाकिस्तान के लिए जान देने वाले हिंदू सैनिक की कहानी सोशल मीडिया पर वायरल

नई दिल्ली। भारत-पाकिस्तान की सेनाएं बार्डर पर जब आमने-सामने होती हैं तो उनको सामने दुश्मन ही नजर आता। हालांकि दोनों देशों के नागरिकों के दिलों में इच्छा है कि यह नफरत की दीवार गिर जाए लेकिन जिस तरह से पाकिस्तान सीजफायर और आतंकवाद को बढ़ावा देता है, उससे एक बार फिर से पड़ोसी देश से दूरियां बढ़ जाती है।

जहां एक तरफ भारती की आर्मी पाकिस्तान के खिलाफ डटी रहती है वहीं एक हिंदू जवान है जो पाकिस्तान की आर्मी में शामिल है और उसके लिए लड़ता है। पाकिस्तानी सेना के हिंदू सैनिक की कहानी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसी महीने वह जवान सीमा पर तैनात भी था, जहां उसकी मौत हो गई। हालांकि मौत के कारण का पता नहीं चल पाया है।

लांस नायक लाल चंद राबड़ी (27) महीने भर पहले पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से कुछ ही दूरी पर मंगला फ्रंट के पास ड्यूटी पर तैनात था। वह पाकिस्तान के सिंध प्रांत में बादिन जिले के इस्माइल खान नौटखनी गांव के रहने वाला था। लाल चंद के पिता गड़रिया और मां किसान है।

लांस नायक के बड़े भाई भेमन राबड़ी ने बताया कि लाल चंद इससे पहले वजीरिस्तान के आदिवासी इलाके में तैनात था, जहां उन्होंने देश को नुकसान पहुंचाने वाले कट्टरपंथियों को सबक सिखाना चाहा। वजीरिस्तान में पोस्टिंग से लौटकर आने के बाद लाल चंद ने बताया था कि “हमारे देश के बच्चों और लोगों को नुकसान पहुंचाने वालों से मैं खून के एक-एक कतरे का बदला लूंगा।”

2009 में मैट्रिक परीक्षा में पास होने के बाद लाल चंद घर में बिना किसी को बताए पाकिस्तान सेना में भर्ती होने के लिए बादिन चला गया। वहीं से उसने अपनी स्नातक की पढ़ाई की। वह अपने दोनों छोटे भाइयों को भी सेना में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित करता। लाल चंद का एक अभी 11वीं कक्षा में पढ़ रहा है तो दूसरा सातवीं में है।

लाल चंद के भाई ने बताया कि वह हमेशा देश सेवा के लिए तत्पर रहता था, वो कहता था, “जिस देश में हम जी रही है, वह हमारे घर की तरह है और जो इस पर हमला करेगा उसे मेरी आखिरी सांस तक कठिन हालात का सामना करना पड़ेगा।”

भेमन ने कहा कि “हमारे शरीर में राजपूताना खून है, हमारी मां अपने सभी बेटों और पोतों को देश की सेवा और सुरक्षा के लिए उतार चुकी हैं और उन्हें इस बात का कोई दुख नहीं कि सीमा पर देश की रक्षा करते हुए वे अपनी जान गंवा दें।” लाल चंद की इस कहानी को फेसबुक पर शेयर किया है। पाकिस्तानी की ओर से इस पर काफी कमेंट आ रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT