Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / छेड़कानी में राष्ट्रवाद देखने पर भड़के यूज़र्स, ऑनलाइन याचिका दायर कर की BHU वीसी को हटाने की मांग

छेड़कानी में राष्ट्रवाद देखने पर भड़के यूज़र्स, ऑनलाइन याचिका दायर कर की BHU वीसी को हटाने की मांग

बीएचयू में छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज से नाराज़ लोगों ने एक ऑनलाइन याचिका पर हस्ताक्षर कर बीएचयू के वीसी को हटाने की मांग की है। यह याचिका चेन्ज डॉट ओआरजी द्वारा शुरु की गई है।

इस याचिका में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मानव संसाधन मंत्री को टैग कर यह अपील की गई है कि यूनिवर्सिटी के वीसी गिरीश चंद्र त्रिपाठी को जल्द से जल्द बर्खास्त किया जाए। याचिका में लिखा गया है, “वर्तमान कुलपति गिरीश चंद्र त्रिपाठी ने जब से कार्य ग्रहण किया है तब से आये दिन विश्विद्यालय किसी न किसी वजह से नकारात्मक खबरों को लेकर सुर्खियों में रहा है”।

याचिका में आगे लिखा गया, “दिन प्रति दिन विश्विद्यालय में छात्राओं के प्रति लिंग भेद , उनसे छेड़ छाड़ की घटनाये बढ़ती जा रही हैं और विश्विद्यालय का प्रॉक्टोरियल बोर्ड आँखे बंद किये सब होने दे रहा हैं| हालिया घटना में सुरक्षा अधिकारियो से महज कुछ दूरी पर एक छात्रा के साथ तीन लड़कों ने बदसलूकी की और छात्र की शिकायत भी नहीं सुनी गई। इस घटना के बाद से छात्राये अपनी सुरक्षा के मुद्दे को लेकर प्रदर्शन कर रही हैं और उनकी मांगे भी जायज़ हैं।

याचिका में पीएम मोदी को संबोधित करते हुए लिखा गया, “प्रधानमंत्री महोदय मैं आपको बताना चाहूंगा की आपके प्रशासनिक  अमले को इसकी जानकरी थी कि छात्रायें दिन भर प्यासी विश्विद्यालय गेट पर प्रदर्शन कर रही हैं और इसको आपसे छुपाने के लिए उन्होंने आपके रुट में बदलाव किया, जब आप दुर्गा कुंड में फव्वारे  का लुत्फ़ उठा रहे  थे और माता की अर्चना कर रहे थे उस वक्त लड़कियां अपने हक़ के लिए भूखी प्यासी जूझ रही थी|

इस मुद्दे की जानकारी आपके राजनीतिक दल के सहयोगियों को भी थी वो इस मामले पर लगातार सोशल मीडिया में टिपण्णी कर रहे थे  लेकिन चाटुकारिता में उन्होंने आपको सत्य बताने की जहमत नहीं उठायी| 2 दिन के इस प्रदर्शन के बाद भी न तो गिरीश चंद्र त्रिपाठी ने उनसे मिल के इस मामले को सुलझाना जरुरी समझा न ही कोई अन्य प्रयास किए|

इस शांति पूर्ण प्रदर्शन के दौरान 23 सितम्बर की रात सुरक्षा बालों ने छात्राओं पर लाठीचार्ज किया, लड़कियों के हॉस्टल में पुरुष सुरक्षा बल घुसेड़ दिए गए, आज उनको जबरन हॉस्टल से निकालकर घर भेजा जा रहा है| दमन के चक्र में 1200 छात्रों के खिलाफ FIR दर्ज कर दी गयी है|

गिरीश चंद्र त्रिपाठी, एक नकाबिल, गैर जिम्मेदार व्यक्ति हैं जो अपनी प्रशाशनिक असफलता को बल के द्वारा दमन कर छुपाना चाहते हैं, मैं आपसे अनुरोध करता हूँ की आप इस का संज्ञान लें और विश्विद्यालय में छात्राओं को भी सुरक्षा और बराबर सुविधाओं का हक़ दिलवाएं साथ ही सतह विश्वविद्यालय में पूर्ववत अध्यन अध्यापन का माहौल सुनिश्चित करवाएं|

TOPPOPULARRECENT