Wednesday , August 23 2017
Home / Khaas Khabar / रेडइंक 2017: चार मुस्लिम पत्रकारों को मिला ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

रेडइंक 2017: चार मुस्लिम पत्रकारों को मिला ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए साल 2017 का रेडइंक लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से देश भर के 28 पत्रकारों को सम्मानित किया गया है। इसमें चार मुस्लिम पत्रकार भी शामिल हैं।

रेडइंक लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड का आयोजन 7 जून को मुंबई के नलिमन पॉवइंट के जमशेद भाबा थियेटर में किया। इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मुख्य अतिथि के रूप में समारोह में शामिल हुए।

जिन मुस्लिम पत्रकारों को इस पुरस्कार के लिए चुना गया उनमें एनडीटीवी के आमिर रफीक पीरजादा, स्क्रॉल के रयान नाकाश, फाउंटेन इंक की आलिया अलाना और इंडिया टुडे के अतिर खान का नाम शामिल है।

आमीर रफीक पीरजादा को विज्ञान और नवाचार श्रेणी में, रयान नाकाश को मानव अधिकार के क्षेत्र रिपोर्टिंग के लिए, आलिया अलाना और अतिर खान को क्राइम रिपोर्टिंग के लिए सम्मानित किया गया।

पत्रकारिता -2017 में उत्कृष्टता के लिए रेडइन्क पुरस्कारों की न्यायिक प्रक्रिया 22 मई को 32 पुरस्कार विजेताओं के चयन के साथ – प्रतिस्पर्धी श्रेणी में 28 और विशेष श्रेणियों में 4 पुरस्कार विजेताओं के साथ पूरी हुई।

मुंबई प्रेस क्लब की तरफ से दिया जाने वाले ये उत्कृष्ट पत्रकारिता पुरस्कार का यह 7वां साल है। इस साल राजनीति, पर्यावरण, मानवाधिकार, खेल, विज्ञान जैसे 14 विषयों के लिए प्रिंट, डिजिटल एवं टेलीविजन माध्यमों से करीब 1300 प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं।

बता दें कि इस बार संस्था को प्राप्त हुई प्रविष्टियों में 2016 के मराठवाड़ा और बुंदेलखंड के सूखे पर की गई रिपोर्टिंग ने जूरी का विशेष ध्यान आकर्षित किया।

इन्हीं रिपोर्टों में दैनिक जागरण के राजू मिश्र को बुंदेलखंड के सूखे पर आठ रिपोर्टस और फर्स्टपोस्ट टीम को पर्यावरण श्रेणी में मराठवाडा क्षेत्र में रिपोर्टिंग के लिए संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया गया।

इसके अवाला एबीपी न्यूज के रिपोर्टर अभिसार शर्मा को ह्यूमन राइट्स कैटेगरी में सम्मानित किया गया। अभिसार शर्मा को उनकी स्पेशल स्टोरी ‘ऑपरेशन लाल जंगल’ के लिए पुरस्कृत किया गया। उन्होंने पिछले साल मई महीने में नक्सलियों के नाम पर पुलिस अत्याचार की कहानी दिखाई थी।

TOPPOPULARRECENT