Wednesday , July 26 2017
Home / Social Media / ‘इस्लामिक पाकिस्तान’ लिखना संघ प्रचारक को पड़ा मंहगा, ट्विटर अकाउंट हुआ सस्पेंड

‘इस्लामिक पाकिस्तान’ लिखना संघ प्रचारक को पड़ा मंहगा, ट्विटर अकाउंट हुआ सस्पेंड

संघ प्रचारक और शिक्षाविद राकेश सिन्हा का ट्विटर अकाउंट को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक ट्वीट करने के चलते सस्पेंड कर दिया गया।

राकेश सिन्हा ने ट्वीट किया था, ‘हम पाकिस्तान नहीं इस्लामिक पाकिस्तान को तहस-नहस करेंगे’।

जिसपर तुरंत एक्शन लेते हुए ट्विटर मैनेजर्स ने उनके ट्वीट को डिलीट करवा कर 12 घंटो के लिए उनके अकाउंट को ससपेंड कर दिया।

सिन्हा का आरोप है कि ट्विटर मैनेजर्स को मेरा पाकिस्तान के साथ इस्लामिक जोड़ना सही नहीं लगा। मेरे अकाउंट को सस्पेंड करने के लिए मुझे ये कारण दिया गया कि मैंने ट्विटर के कायदों का उल्लंघन किया है।

जबकि पाकिस्तान के आधिकारिक नाम के साथ इस्लामिक शब्द जुड़ा हुआ है। औपचारिक मौकों पर भारत के लिए भी रिपब्लिक आॅफ इंडिया का इस्तेमाल होता है।

अगर मैंने इस का इस्तेमाल किया तो इसमें क्या आपत्ति है। ट्विटर ने कभी उन ट्वीट्स को तो डिलीट नहीं करवाया जिसमें भारत विरोधी बातें होती हैं या फिर संघ विरोधी।

मैं ट्वीट करते वक्त सारे मानदंडों का पालन करता हूं, किसी तरह की असंसदीय भाषा का इस्तेमाल नहीं करता हूं। तो क्या मेरे विचारों पर आपत्ति सिर्फ मेरी विचारधारा के कारण है?

बता दें कि सिन्हा के इस ट्वीट को ट्विटर यूज़र्स ने डेढ़ लाख बार री-ट्वीट किया और इसे डेढ़ हजार यूज़र्स ने लाइक किया। सिन्हा ने कहा कि उन्हें ट्विटर द्वारा इस तरह के ट्वीट दुबारा न करने की चेतावनी दी गई है।

अगर ऐसे दोहराया गया तो उनका ट्विटर अकाउंट स्थायी रूप से बंद कर दिया जाएगा।

वहीँ सिन्हा के समर्थकों ने अपना गुस्सा भी ट्विटर पर निकाला। उनके समर्थकों ने कहा कि हम सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं लेकिन हमारे अधिकार व्यक्तिपरक हैं।

उनका कहना है कि सोशल मीडिया पर एक खास विचारधारा पर हमला किया जा रहा है। अब हमें अपने विचार प्रकट करने के लिए कोई स्वदेशी सोशल मीडिया बनाना पड़ेगा ?

TOPPOPULARRECENT