Thursday , September 21 2017
Home / Uttar Pradesh / लेडी सिंघम श्रेष्ठा ठाकुर को मिली BJP नेताओं के खिलाफ़ कार्रवाई की सज़ा, बुलंदशहर से बहराइच ट्रांसफर

लेडी सिंघम श्रेष्ठा ठाकुर को मिली BJP नेताओं के खिलाफ़ कार्रवाई की सज़ा, बुलंदशहर से बहराइच ट्रांसफर

यूपी के बुलंदशहर में बीजेपी नेताओं को कानून सिखाने वाली महिला पुलिस अधिकारी का तबादला कर दिया गया है । बीजेपी नेताओं को खरी खरी सुनाने वाली पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा ठाकुर का तबादला बहराइच कर दिया गया है ।

श्रेष्ठा ठाकुर ने एक हफ्ते पहले स्थानीय बीजेपी नेता और अन्य पांच नेताओं को पुलिस कार्यवाही में दखल देने और पुलिस अधिकारी से बदतमीजी करने के आरोप में जेल भेज दिया था। हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार ठाकुर के तबादले के बाद स्थानीय नेता इसे अपना सम्मान मान रहे हैं और इसके साथ ही आला अधिकारियों से महिला अफसर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

बुलंदशहर के बीजेपी अध्यक्ष मुकेश भारद्वाज ने कहा कि ठाकुर पर सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ और अन्य नेताओं पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का मामला दर्ज कराया गया है।

यूपी में भाजपा सरकार बनने के बाद पार्टी से जुड़े लोगों के विवादों की खबर में लगातार इजाफा हो रहा है। एक हफ्ते पहले ट्रैफिक रूल तोड़ने पर पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ता का चालान काट दिया था।

आरोप है कि इसके बाद अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं ने महिला CO श्रेष्ठा ठाकुर से बदसलूकी की। इतना ही नहीं, जिन कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा था, उन्हें भी कोर्ट परिसर से छुड़ाने की कोशिश की गई। कार्यकर्ताओं ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी भी की।

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिले के स्याना कस्बे में बीजेपी की जिला पंचायत सदस्य के पति प्रमोद लोधी का ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन में पुलिस ने चालान काटा था। चालान काटे जाने के बाद प्रमोद पुलिस से भिड़ गया। बात हाथापई तक पहुंच गई। जिसके बाद पुलिस ने बाइक को सीज कर प्रमोद को गिरफ्तार कर लिया।

प्रमोद को जब कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया तब बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता वहां पहुंच गए और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की गई। कार्यकर्ताओं और महिला CO के बीच भी जमकर बहस हुई।

 

कार्यकर्ताओं का आरोप था कि पुलिस बीजेपी से जुड़े ही लोगों के खिलाफ कार्रवाई करती है और ट्रैफिक नियमों के नाम पर घूसखोरी की जाती है। हालांकि सीओ ने इन आरोपों की सिरे से नकार दिया। महिला CO ने मीडिया को बताया, “मामला चालान का था। प्रमोद के पास पूरे दस्तावेज नहीं थे। पहले उन्होंने मेरे साथ बदतमीजी की। इसके बाद दूसरे पुलिस अधिकारियों के साथ भी बदसलूकी की गई।”

TOPPOPULARRECENT