Sunday , September 24 2017
Home / International / टोनी ब्लेयर की साली लॉरेन बूथ ने कहा, आतंकवादी हमलों के लिए इस्लाम नहीं ड्रग्स जिम्मेदार है

टोनी ब्लेयर की साली लॉरेन बूथ ने कहा, आतंकवादी हमलों के लिए इस्लाम नहीं ड्रग्स जिम्मेदार है

लॉरेन बूथ

ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर की साली लॉरेन बूथ ने लंदन में सोमवार की रात को हुए आतंकी हमले पर इस्लाम का बचाव किया है। लॉरेस ने कहा कि हाल ही में हुए आतंकी हमले के लिए ड्रग्स मुख्य वजह है न कि इस्लाम धर्म।

टोनी ब्लेयर की पत्नी चेरी ब्लेयर की 49 वर्षीय बहन लॉरेन ने साल 2000 में अपनी पहली शादी टुटने के बाद इस्लाम धर्म को अपना लिया था। उन्होंने एक टीवी डिबेट के दौरान दावा किया कि युवाओं को नशाओं ने बुरी तरह जकड़ लिया है यही कारण है कि आए दिन इस तरह के हमले हो रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि वेस्टमिंस्टर बॉम्बर ड्रग्स लेते हैं और वेश्याओं के साथ रहते हैं। उन्होंने दावा किया कि ट्यूनीशिया के हमलावर ने भी ड्रग्स ली थी और पेरिस हमलावर ने भी। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय लंबे समय से पुलिस को इन क्षेत्रों में बुला रहा है कि वो आकर देखे कि कैसे यहां नशे का कारोबार हो रहा है।

लॉरेन ने कहा कि देश का हर व्यक्ति इस तरह के हमलों से नराज है। उन्होंने मैनचेस्टर हमले के तुरंत बाद सरकार ने जो गलतियां की उस पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा, “मैं चाहती हूं कि पुलिस सड़कों पर दिखे। मुझे लगता है कि यह शुरू में ही गलती हुई। सड़कों पर जल्द से जल्द पुलिस को जाना चाहिए था।”

इसके बाद उन्होंने कहा कि मैनचेस्टर में हुए हमले के बाद सशस्त्र पुलिस को सार्वजनिक परिवहन, समुद्र तटों और दूसरे जगहों पर गश्त लगाने देखा गया। इन्हीं वजहों से मरने वालों की संख्या 22 हो गई और जबकि 100 से अधिक पहले ही घायल थे।

उसने कहा, “हमें और पुलिस की जरूरत है। हमें बीस हजार और पुलिस की जरूरत है। हमें अपने सभी सभी शक्तियों को बीमारी से उत्पन्न कारणों पर लगाने की जरूरत है। इस बारे में पता लगाने की आवश्यता है कि इसके मूल वजह क्या हैं।”

उन्होंने कहा कि मैं एक सेलिब्रिटी हूंI मेरा मानना है कि किसी संदिग्द की गिरफ्तारी से पहले इसकी पूरी जांच किया जाए। खासतौर से उनके सार्वजनिक और ऑनलाइन गतिविधियों की जांच करने की जरूरत है। इससे फायदा यह भी होगा कि निर्दोष लोगों की गिरफ्तारी नहीं होगी।

गौरतलब है कि जन्म से कैथलिक लॉरेस बूथ पेशे से पत्रकार हैं। लॉरेस ह्यूमन राइट्स कैंपेनर भी हैं। इस्लाम धर्म अपनाने के बाद लॉरेस ने कहा था कि ईरान यात्रा के दौरान उन्हें पहली बार  इस्लाम के बारे झुकाव आया। उन्हें एक मजार में अनोखा अनुभव हुआ। वो बताती है कि अब वो पांचों वक्त की नमाज पढ़ती हैं और कुरआन की तिलावत करती हैं।

बता दें कि लॉरेस ने अपने जीजा टोनी ब्लेयर पर मुस्लिमों के प्रति भेदभाव करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा कि मेरे जीजा मुस्लिमों के प्रति अच्छा नजरिया नहीं रखते। इसलिए वह कभी फलस्तीन और इस्त्राइल के बीच बैलेंस नहीं बना पाएंगे।

TOPPOPULARRECENT