Friday , October 20 2017
Home / Hyderabad News / TRS के दो एमएलए असेंबली बिल्डिंग पर….

TRS के दो एमएलए असेंबली बिल्डिंग पर….

हैदराबाद, 14 जून: अलैहदा तेलंगाना रियासत बनाने की ताइद में एहतिजाजी मुज़ाहिरा करते हुए हैदराबाद में असेंबली बिल्डिंग पर तेलंगाना राष्ट्र समिति के दो एमएलए चढ़ गए। दोनों धमकी देते रहे कि जल्दी ही अलग तेंलंगाना रियासत बनाने का ऐला

हैदराबाद, 14 जून: अलैहदा तेलंगाना रियासत बनाने की ताइद में एहतिजाजी मुज़ाहिरा करते हुए हैदराबाद में असेंबली बिल्डिंग पर तेलंगाना राष्ट्र समिति के दो एमएलए चढ़ गए। दोनों धमकी देते रहे कि जल्दी ही अलग तेंलंगाना रियासत बनाने का ऐलान नहीं किया गया तो वे बिल्डिंग से छलांग लगा लेंगे।

टीआरएस के और एमएलए भी असेंबली बिल्डिंग में तेलंगाना की ताइद में मुज़ाहिरा कर रहे हैं। बिल्डिंग पर चढ़े टीआरएस एमएलए के. सम्मैया और डी. विनय भास्कर ने मांग की है कि जिन तेलंगाना हामियों को अरेस्ट किया गया है उन्हें रिहा किया जाए। करीब एक घंटे बाद असेंबली मार्शल ने दोनों एमएलए को बिल्डिंग से नीचे उतारा।

तेलंगाना हामी पार्टी की तरफ से बुलाए गए ‘चलो असेंबली’ एहतिजाज को देखते हुए आंध्र प्रदेश की राजधानी को बतौर छावनी में बदल दिया गया है। यहां राज्य के 10 हजार पुलिसअहलकार और मरकज़ी फोर्स के 2 हजार जवान तैनात हैं। पुलिस ने एहतिजाजी मुजाहिरा के लिए इज़ाज़त देने से इनकार कर दिया है।

हैदराबाद और साइबराबाद पुलिस कमिश्नर ऑफिस के आसपास धारा 144 लगा दी गई है। यह धारा 15 जून सुबह 6 बजे तक रहेगी।

शहर के बीचों बीच वाकेए असेंबली की ओर जाने वाली कई सड़कों को या तो बंद कर दिया गया है या ट्रैफिक का रास्ता बदल दिया गया हैं। इन पाबंदियों की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। APSRTC की सर्विस जारी है जबकि Southeast रेलवे ने अपनी मुकामी (Local Train) रेलों को रद्द कर दिया है। स्कूलों और कॉलेजों में छुट्टी का ऐलान कर दिया गया है।

उस्मानिया यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स ने असेंबली की ओर मार्च करने की कोशिश की लेकिन सेक्युरिटी फोर्स ने उन्हें रोक दिया। कानून निज़ाम में गड़बड़ी के खदसे से रियासत के तकरीबन 10 हजार पुलिसअहलकार और मर्कज़ी फोर्स के 2 हजार जवानों को सेक्युरिटी इंतेज़ामात के लिए तैनात किया गया है।

मुज़ाहिरा मुनाकिद करने वाली टीआरएस, बीजेपी और तेलंगाना ज्वाइंट वर्किंग कमेटी ने आंध्र की हुकूमत पर इल्ज़ाम लगाया कि उसने ‘तेलंगाना तहरीक को दबाने के लिए दमनकारी तरीके अपनाए हैं।’ अलैहदा रियासत की मांग करते हुए पुरअमन मुज़ाहिरा की ख़ाहिश जताते हुए टीआरएस, बीजेपी और Joint Action Committee ने हुकूमत से रैली करने की इज़ाज़त मांगी थी।

TOPPOPULARRECENT