Saturday , July 29 2017
Home / Khaas Khabar / जमशेदपुर: हिंसा के बाद 4 दिनों से 12 मुस्लिम परिवार गांव छोड़कर मस्जिद में रहने को मजबूर

जमशेदपुर: हिंसा के बाद 4 दिनों से 12 मुस्लिम परिवार गांव छोड़कर मस्जिद में रहने को मजबूर

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

पिछले दिनों जमशेदपुर से करीब 50 किलोमीटर दूर पोखोरिया गांव में छेड़खानी के मामले को लेकर आरोपी समेत दो और लोगों के घर को आग के हवाले कर दिया गया।

दरअसल आरोपी मुस्लिम था और माहौल रामनवमी के ठीक बाद का था इसलिए वक़्त की नज़ाकत को देखते हुए आरोपी के परिजनों समेत जितने भी मुस्लिम परिवार गांव में थे, गांव छोड़कर शहर के एक मस्जिद में सुरक्षा के मद्देनजर आ गए। नहीं आ पाया तो सिर्फ शरीफ अंसारी जिनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है।

क्या है मामला?

11 अप्रैल की सुबह खदान में काम करने गई महिला के साथ एक अधेड़ उम्र के आदमी ने छेड़खानी कर दी। इसके बाद महिला ने ये बात गाँव के मुखिया को बताई।

फिर महिला ने अपने पति को भी फोन करके सारा मामला बताया जोकि किसी काम से गांव से बाहर गया हुआ था।

इसके बाद गांव वालों ने शाम के समय खुद ही फैसला करते हुए आरोपी सहित दो अन्य लोगों के घर के साथ-साथ एक इबादतगाह को भी आग के हवाले कर दिया।

हालाँकि उस समय कोई भी मुस्लिम गांव में नहीं था। राहगीरों ने आग के लपटे उठती देख पुलिस को फोन किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने बिगड़ते माहौल को संभाला।

इसके बाद छेड़खानी के आरोपी असकरी अंसारी को बगल के एक गांव से गिरफ्तार किया गया। आरोपी ने गुनाह काबुल किया। पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया गया।

लेकिन मामला अब भी शांत नहीं हुआ। जब दूसरे दिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने आई जिन्होंने तीन घर और एक इबादतगाह को आग लगाई थी तो लोगों का गुस्सा पुलिस पर भड़क गया।

इस दौरान पुलिस और ग्रामीणों के बीच कई घंटो तक लाठी, पत्थरबाज़ी हुई और हवाई फाइरिंग तक की गई।

 

बता दें कि बीते कुछ दिनों से जमशेदपुर, रांची और आसपास के इलाकों में इस तरह की घटनाओं में तेज़ी आई है। ज़ाहिर सी बात है इसमें टारगेट मुसलमानों को ही किया जाता है।

  • दीपक रंजीत 

 

TOPPOPULARRECENT