‘आलिम कहलाना तो आसान है, लेकिन अमली ज़िन्दगी में उलेमा ए किराम की विरासत को बाकी रखना मुश्किल’

‘आलिम कहलाना तो आसान है, लेकिन अमली ज़िन्दगी में उलेमा ए किराम की विरासत को बाकी रखना मुश्किल’

शिक्षा और तालीम की नई दुनिया जो इतनी आकर्षक और हल्की फुल्की नज़र आती है, इसका कारण शिक्षा विशेषज्ञों …

चुनाव जब महंगे होंगे, तो याद कीजिएगा कि इसका पैसा आपने ही दिया है, 80 रुपए पेट्रोल ख़रीदकर: रवीश कुमार

चुनाव जब महंगे होंगे, तो याद कीजिएगा कि इसका पैसा आपने ही दिया है, 80 रुपए पेट्रोल ख़रीदकर: रवीश कुमार

सजन रे झूठ मत बोलो, पेट्रोल पंप पर जाना है, पेट्रोल के दाम 80 रुपये के पार गए तो सरकार ने कारण बताए।…

रवीश कुमार: पेट्रोल का भाव 83.32 रुपए लीटर! क्या आप अपने-अपने शहरों के पेट्रोल के दाम लिख सकते हैं?

रवीश कुमार: पेट्रोल का भाव 83.32 रुपए लीटर! क्या आप अपने-अपने शहरों के पेट्रोल के दाम लिख सकते हैं?

महाराष्ट्र के सोलापुर में 15 सितंबर हाई स्पीड पेट्रोल का भाव 83 रुपये 32 पैसे प्रति लीटर था? कुछ के …

जब हिन्दू दोस्त को बचाने के लिए वीर अब्दुल हमीद ने ज़मींदार के 50 लठैतों को अकेले मार भगाया

जब हिन्दू दोस्त को बचाने के लिए वीर अब्दुल हमीद ने ज़मींदार के 50 लठैतों को अकेले मार भगाया

कारें और जीपें तो हज़ार देखी होगी आपने, पर ये जीप नही देखी होगी। कभी नही देखी होगी। लेकिन ठीक है, नह…

वीडियो: शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने अपनी नज़्म में शामिल किया रोहिंग्या मुसलमानों का दर्द

वीडियो: शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने अपनी नज़्म में शामिल किया रोहिंग्या मुसलमानों का दर्द

मशहूर युवा शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने हमेशा की तरह एक बार फिर अपनी शायरी में जमीनी हकीकत को शामिल किया…

रवीश कुमार: क्या ‘राष्ट्रहित’ में मुंबई के लोग 100 रुपए लीटर पेट्रोल भी ख़ुशी-ख़ुशी ख़रीद सकते हैं?

रवीश कुमार: क्या ‘राष्ट्रहित’ में मुंबई के लोग 100 रुपए लीटर पेट्रोल भी ख़ुशी-ख़ुशी ख़रीद सकते हैं?

दिल्ली में शनिवार को पेट्रोल 70.03 रुपया प्रति लीटर हो गया। पिछले आठ महीने में यह अधिकतम वृद्धि है। …

गौरी लंकेश के बाद माँ लिखने से मना करती हैं, कहा- समाज नहीं बदलेगा, जान ज़रूर चली जाएगी: अभिसार शर्मा

गौरी लंकेश के बाद माँ लिखने से मना करती हैं, कहा- समाज नहीं बदलेगा, जान ज़रूर चली जाएगी: अभिसार शर्मा

सबसे ज्यादा चिंताजनक इनके वो बेकाबू समर्थक हैं, जिनपर मैं नहीं बता सकता बीजेपी और उसकी सहयोगी संस्था…

नोटबंदी के महज 12 घंटे के अंदर ही इस पत्रकार ने लिख दिया था लेख, जो अब बिल्कुल सटीक साबित हो रहा है

नोटबंदी के महज 12 घंटे के अंदर ही इस पत्रकार ने लिख दिया था लेख, जो अब बिल्कुल सटीक साबित हो रहा है

RBI द्वारा हाल ही जो आकड़ें जारी किये गए वह अपने आप में एक चौका देने वाले आकड़ों के रूप में देश की ज…

रवीश कुमार: हिंदी में गौरी लंकेश का आख़िरी संपादकीय , टाइटल था- ‘फेक न्यूज़ के ज़माने में’

रवीश कुमार: हिंदी में गौरी लंकेश का आख़िरी संपादकीय , टाइटल था- ‘फेक न्यूज़ के ज़माने में’

गौरी लंकेश नाम है पत्रिका का। 16 पन्नों की यह पत्रिका हर हफ्ते निकलती है। 15 रुपये कीमत होती है। 13 …