Friday , November 24 2017
Home / Ghazal (page 4)

Ghazal

मुझे सहल हो गई मंजिलें वो हवा के रुख भी बदल गए…

मुझे सहल हो गई मंजिलें वो हवा के रुख भी बदल गए तेरा हाथ हाथ मे आ गया की चिराग राह मे जल गए वो लजाए मेरे सवाल पर की उठा सके न झुका के सर उड़ी जुल्फ चेहेरे पे इस तरह की शबों के राज मचल गए वही बात …

Read More »

नहीं आती तो याद उनकी महीनों तक नहीं आती…

भुलाता लाख हूँ लेकिन बराबर याद आते हैं इलाही तर्के-उल्फत पर वो क्योंकर याद आते हैं न छेड़ ऐ हमनशीं कैफियते–सहबा के अफसाने शराबे–बेखुदी के मुझको सागर याद आते हैं रहा करते हैं कैदें-होश में ऐ बाए नाकामी वो दश्ते-खुद-फरामोशी के चक्कर याद आते हैं नहीं आती तो याद उनकी …

Read More »

ख़ाना – आबादी ……. साहिर लुधियानवी

ख़ाना – आबादी   ……. साहिर लुधियानवी

तराने गूँज उठे हैं फ़ज़ा में शादियानों के हवा है इतर-आगीं , ज़र्रा ज़र्रा मुस्कुराता है मगर दूर, एक अफ़सुर्दा मकाँ में सर्द बिस्तर पर कोई दिल है कि हर आहट पे यूं ही चौंक जाता है मेरी आँखों में आंसू आ गए ‘नादीदा आखों” के मेरे दिल में कोई …

Read More »

फिर मुझे दीद ए तर याद आया….. (ग़ालिब)

फिर मुझे दीद ए तर याद आया….. (ग़ालिब)

फिर मुझे दीद ए तर याद आया दिल जिगर तिश्न ए फ़रियाद आया दम लिया था ना क़यामत ने हनोज़ फिर तेरा वक़्त ए सफ़र याद आया सादगी हाय तमन्ना , या’नी फिर वो नैरंगे-नज़र याद आया ज़िन्दगी यूं भी गुज़र ही जाती क्यूँ तेरा राह गुज़र याद आया कोई …

Read More »

तुम से बेरंगी-ए-हस्ती का गिला करना था

तुम से बेरंगी-ए-हस्ती का गिला करना था

तुम से बेरंगी-ए-हस्ती का गिला करना था दिल पे अंबार है ख़ूँगश्ता तमन्नाओं का आज टूटे हुए तारों का ख़याल आया है एक मेला है परेशान सी उम्मीदों का चन्द पज़मुर्दा बहारों का ख़याल आया है पाँव थक-थक के रह जाते हैं मायूसी में

Read More »

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में और जाम टूटेंगे इस शराब-ख़ाने में मौसमों के आने में मौसमों के जाने में हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं उम्र बीत जाती है दिल को दिल बनाने में

Read More »

बिंत-ए-लमहात

बिंत-ए-लमहात

तुम्हारे लहजे में जो गर्मी-ओ-हलावत है इसे भला सा कोई नाम दो वफ़ा की जगह गनीम-ए-नूर का हमला कहो अँधेरों पर दयार-ए-दर्द में आमद कहो मसीहा की रवाँ-दवाँ हुए ख़ुशबू के क़ाफ़िले हर सू ख़ला-ए-सुबह में गूँजी सहर की शहनाई

Read More »

तू इस वक़्त अकेला होगा

तू इस वक़्त अकेला होगा

दुख की लहर ने छेड़ा होगा याद ने कंकड़ फेंका होगा आज तो मेरा दिल कहता है तू इस वक़्त अकेला होगा मेरे चूमे हुए हाथों से औरों को ख़त लिखता होगा भीग चलीं अब रात की पलकें तू अब थक कर सोया होगा रेल की गहरी सीटी सुन कर

Read More »

कटेगा देखिए दिन जाने किस अज़ाब के साथ

कटेगा देखिए दिन जाने किस अज़ाब के साथ

कटेगा देखिए दिन जाने किस अज़ाब के साथ कि आज धूप नहीं निकली आफ़ताब के साथ तो फिर बताओ समंदर सदा को क्यूँ सुनते हमारी प्यास का रिश्ता था जब सराब के साथ बड़ी अजीब महक साथ ले के आई है नसीम रात बसर की किसी गुलाब के साथ

Read More »

ज़िंदगी है ज़ात-ए-गुम गुशता के फिर पाने का ना

ज़िंदगी है ज़ात-ए-गुम गुशता के फिर पाने का ना

ज़िंदगी है ज़ात-ए-गुम गुशता के फिर पाने का नाम मौत क्या है? आप अपने से बिछड़ जाने का नाम रहरवी क्या है मुसलसल ठोकरें खाने का नाम रहबरी है ठोकरें खाकर सँभल जाने का नाम अब्र क्या है ज़ुल्फ़ के शानों पे लहराने का नाम

Read More »

बिखरते टूटते लम्हों को अपना हमसफर जाना

बिखरते टूटते लम्हों को अपना हमसफर जाना

बिखरते टूटते लम्हों को अपना हमसफर जाना था इस राह में आखिर हमें खुद भी बिखर जाना हवा के दोश पे बादल के टुकड़े की तरह हम हैं किसी झोंके से पूछेंगे कि है हमको किधर जाना मेरे जलते हुए घर की निशानी बस यही होगी

Read More »

दिल की बात लबों पर लाकर,

दिल की बात लबों पर लाकर,

हबीब जालिब की इस ग़ज़ल को मेहदी हसन और मु्न्नी बेगम व दीगर कई गुलूकारों ने गाकर मक़बूल किया है। दिल की बात लबों पर लाकर, अब तक हम दुख सहते हैं हम ने सुना था इस बस्ती में दिल वाले भी रहते हैं एक हमें आवारा कहना कोई बड़ा इल्ज़ाम नहीं

Read More »

सिमट सिमट सी गई थी ज़मीं किधर जाता

सिमट सिमट सी गई थी ज़मीं किधर जाता

सिमट सिमट सी गई थी ज़मीं किधर जाता मैं उस को भूला जाता हूँ वरना मर जाता मैं अपनी राख कुरेदूँ तो तेरी याद आये न आयी तेरी सदा वरना मैं बिखर जाता तेरी ख़ुशी ने मेरा हौसला नहीं देखा अरे मैं अपनी मुहब्बत से भी मुकर जाता

Read More »

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा दिल मिला है कहाँ-कहाँ तन्हा बुझ गई आस, छुप गया तारा थरथराता रहा धुआँ तन्हा ज़िन्दगी क्या इसी को कहते हैं जिस्म तन्हा है और जाँ तन्हा हमसफ़र कोई गर मिले भी कभी दोनों चलते रहें कहाँ तन्हा

Read More »

…पर यकीं से भी कभी

…पर यकीं से भी कभी

अली सरदार जाफ़री उर्दू की तरक्की पसंद शायरी में अहम मुक़ाम रखते हैं। उनकी नज़्मों में जदीद ज़िन्दगी की पेचीदगिया भी हैं और हुस्नो इश्क की बारीकिया भी। उनकी एक ग़जल यहाँ पेश है। मैं जहां तुम को बुलाता हूं वहां तक आओ

Read More »

अंदाज़ हू-ब-हू तिरी आवाज़-ए-पा का था

अंदाज़ हू-ब-हू तिरी आवाज़-ए-पा का था

अंदाज़ हू-ब-हू तिरी आवाज़-ए-पा का था देखा निकल के घर से तो झोंका हवा का था इस हुस्न-ए-इत्तिफ़ाक़ पे लुट कर भी शाद हूँ तेरी रज़ा जो थी वो तक़ाज़ा वफ़ा का था उट्ठा अजब तज़ाद से इंसान का ख़मीर आदी फ़ना का था तो पुजारी बक़ा का था

Read More »

वो चाँदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है

वो चाँदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है

वो चाँदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिए बनाया है महक रही है ज़मीं चाँदनी के फूलों से ख़ुदा किसी की मोहब्बत पे मुस्कुराया है

Read More »

बेटियों ने सर दबाया देर तक

बेटियों ने सर दबाया देर तक

वो रुलाकर हँस न पाया देर तक जब मैं रोकर मुस्कुराया देर तक भूलना चाहा कभी उस को अगर और भी वो याद आया देर तक भूखे बच्चों की तसल्ली के लिए माँ ने फिर पानी पकाया देर तक गुनगुनाता जा रहा था इक फ़क़ीर धूप रहती है ना साया देर तक

Read More »

वह निशानी भी तअस्सुब की शरारत खा गई

वह निशानी भी तअस्सुब की शरारत खा गई

प्यार को सदियों के एक लम्हे कि नफरत खा गई एक इबादतगाह ये गन्दी सियासत खा गई बुत कदों की भीड़ में तनहा जो था मीनार-ए-हक़ वह निशानी भी तअस्सुब की शरारत खा गई मुस्तक़िल फ़ाक़ो ने चेहरों की बशाशत छीन ली

Read More »
TOPPOPULARRECENT