Wednesday , December 13 2017

Hadis Shareef

हदीस शरीफ़

हदीस शरीफ़

हज़रत अबदुल्लाह बिन उम्र रज़ी अल्लाह ताला अन्हों से रिवायत है रसूलल्लाह सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया अल्लाह मेहनत मज़दूरी करने वाले पेशावर मुस्लमान को बहुत पसंद करता है। (तिबरानी)

Read More »

खाने का सुन्नत तरीका

खाने का सुन्नत तरीका

हजरत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ी अल्लाहु तआला अन्हों से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) फरमाया, जब कोई शख्स खाना खाए तो उसको चाहिए के रिकाबी के ऊपर से न खाए, बलके किनारे से खाए, कियोंके ऊपर के हिस्से में बरकत नाजिल होती है। (अबू दाऊद)

Read More »

हदीस शरीफ़

हदीस शरीफ़

हज़रत अबदुल्लाह बिन अब्बास रज़ी अल्लाह ताला अन्हों से रिवायत है रसूल अल्लाह सल्ल अल्लाह अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया दो आँखों को दोज़ख़ की आग छू नहीं सकती, एक वो आँख जो अल्लाह के ख़ौफ़ से रोने वाली है, दूसरी वो आँख जो मुजाहिदीन की हिफ़ाज़त में रात को जागती …

Read More »

हदीस सरीफ़

हदीस सरीफ़

हज़रत काब बिन अजरा रज़ी अल्लाह तआला अन्हों से रिवायत है रसूल अल्लाह सल्लाहो अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया; अपने लिए, अपनी औलाद के लिए, अपने माँ-बाप के लिए कमाना अल्लाह ताला की ख़ुशनुदी का मूजिब है, रिया और बड़ाई ज़ाहिर करने के लिए कमाना शैतान की

Read More »

सलाम के फाइदे

सलाम के फाइदे

हजरत अबू दरदा रज़ी अल्लाहु तआला अन्हों से रिवायत है के, रसूले पाक (स०)ने फरमाया, ऐ लोगो सलाम कसरत से किया करो इससे तुम दुनियां में सर बलंद हो जाओगे। (तिबरानी)

Read More »

नेक बीवी से बेहतर कोई शय (चीज) नहीं।

नेक बीवी से बेहतर कोई शय (चीज) नहीं।

हजरत अबू उमामा रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) फरमाया, एक बन्द-ए- मोमिन के लिए तक़वा के बाद नेक बीवी से बेहतर कोई शय (चीज) नहीं। (इब्ने माजा)

Read More »

हदीस शरीफ़

हदीस शरीफ़

हजरत अब्दुल्लाह बिन मसउद रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) ने फ़रमाया, जो बन्दा अल्लाह के खौफ से रोया और उसका आंसू मुंह पर बह आया है,चाहे वो कितना ही छोटा हो, उस पर दोज़ख की आग हराम हो जाती है। (इब्ने माज)

Read More »

हदीस शरीफ़

हदीस शरीफ़

हजरत अबू हुरैरा रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के रसूले पाक (स०) ने फ़रमाया, जिस बंदा को अल्लाह तआला ने ज़ुबान और शर्मगाह के गुनाह से महफूज़ कर लिया, वो जन्नत में जाएगा। (बुखारी व मुस्लिम)

Read More »

हदीस शरीफ

हदीस शरीफ

हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०)ने फरमाया, रजाए इलाही के लिए गुस्सा के घोंट को पिजाने से बढ़ कर कोई दूसरा घोंट नहीं है।(इब्ने माजा)

Read More »

हदीस शरीफ

हदीस शरीफ

हजरत अबू हुरैरा रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के रसूल-ए-पाक (स०) ने फ़रमाया किसी औरत को ये जाएज़ नहीं के वो अपने शौहर की इजाज़त के बगैर रोज़ा रखे या बिला इजाज़त किसी दुसरे के घर में जाए या बगैर इजाज़त किसी को कुछ दे। (बुखारी शरीफ)

Read More »

हदीस शरीफ

हदीस शरीफ

हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) फरमाया, जो शख्स अपने माल की हिफाज़त करते हुए कत्ल किया जाए, वो शहीद है। (बुखारी शरीफ)

Read More »

हदीस शरीफ़

हदीस शरीफ़

हज़रत अबदुल्लाह बिन उमर रज़ी अल्लाह ताला अन्हो से रिवायत है रसूल अल्लाह सल्लाहो अलैहि वसल्लम से पूछा गया कि कौनसी कमाई अफ़ज़ल है इरशाद हुआ अपने हाथ से काम करना या तिजारत करके कमाना । (तिबरानी, बेक़ही , हाकिम )

Read More »

हदीस शरीफ

हदीस शरीफ

हजरत अनस रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) ने फ़रमाया, कोई शख्स मरता है और उसके चार पड़ोसि उसके भले होने की गवाही देते हैं, तो अल्लाह तआला फरमाता है, मैं ने तुम्हारी शहादत कुबूल करली,और जिन बातों का तुम्हें इल्म न था वो मैं ने …

Read More »

हदीस शरीफ़

हदीस शरीफ़

हज़रत अबू हुरैरा रज़ी अल्लाह ताला अन्हा से रिवायत है कि रसूलल्लाह सल्लल्लाह अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया: मुसलमान का मुसलमान पर एक हक़ ये भी है कि जब मुसलमान बीमार हो जाए तो दूसरे मुसलमान उस की इयादत करें। (मुस्लिम)

Read More »

जहां कुत्ता हो वहां रहमत के फ़रिश्ते नहीं आते

जहां  कुत्ता हो वहां रहमत के फ़रिश्ते नहीं आते

ग़ज़वा-ए-बदर में शामिल सहाबी हज़रत अबू तलहा रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०)ने फरमाया, रहमत के फ़रिश्ते उस घर में दाख़िल नहीं होते, जिस में कुत्ता या तस्वीर हो। हज़रत इब्न अब्बास रज़ी अल्लाहु तआला अनहु फ़रमाते हैं कि तस्वीरों से यहां जानदार की तस्वीरें मुराद …

Read More »

सच्चाई का सिला

सच्चाई का सिला

हज़रत अबू मूसा रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०)ने फरमाया, ख़ैर (भलाई) तो वो है, जो जंग-ए-अोहद के बाद हमें बख़शी गई और सच्चाई का सिला वो है, जो जंग-ए-बदर के बाद इनायत फ़रमाया गया था। (बुख़ारी शरीफ़)

Read More »

कन्जूसी का नुक़्सान

कन्जूसी का नुक़्सान

हजरत अस्मा रज़ी अल्लाहु तआला अनहा से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) फरमाया, तुम खर्च करो और गिन गिन के जमा मत करो, वर्ना अल्लाह भी तुम्हें गिन गिन के देगा, और बंद करके न रख्खो वर्ना वो भी तुम पर अपनी रहमत के दरवाज़े तुम पर बंद करदेगा। (बुख

Read More »

रमज़ान में नौकरों से सुलूक का बदला

रमज़ान में नौकरों से सुलूक का बदला

हजरत सलमान फ़ारसी रज़ी अल्लाहु तआला अनहो से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक(स०)ने फरमाया,जो कोई इस महीने में अपने ग़ुलाम से काम कम ले अल्लाह ताला उसे बख्श देगा, और दोज़ख से आज़ाद कर देगा। (इब्ने खज़ीमा)

Read More »
TOPPOPULARRECENT