Tuesday , June 19 2018

Literature

सीरियाई-अमेरिकी अंतर्राष्ट्रीय कवि अमल कस्सीर TEDx Mile High Women सम्मेलन में

पहले तो ये जान लें कि TEDx टॉक है क्या, तो TEDx टॉक सम्मेलन में प्रेरक वक्ता और बड़े विचार वाले लोगों को मौका दिया जाता है दर्शकों को इंस्पायरिंग बातों से रू-ब-रू कराने के लिए. हाल ही में भारत में भी शाहरूख खान द्वारा यह शो शुरू किया गया …

Read More »

इस्लाम के खिलाफ़ लिखने वाली तस्लीमा बोली- ‘मरने के बाद मुझे मत दफनाना’

मशहूर विवादित लेखिका तस्लीमा नसरीन आए दिन अपने विवादास्पद बयानों के चलते सुर्खियों में रहती हैं। हाल ही में उन्होंने फिर कुछ ऐसा किया है कि जिसकी वजह से पूरी दुनिया में उनकी चर्चाएं हो रही हैं। दरअसल तस्लीमा नसरीन ने एक बड़े फैसले के तहत अपने शरीर को मरने …

Read More »

फैज़ अहमद फैज़ की बेटी दिल्ली से ‘ निर्वासित ’ वतन वापस लौटाई गयीं

इसका कोई क्या मतलब निकाले जब एक सरकार पड़ोसी मुल्क की सरकार के प्रति अपनी रंजिश का नजला मुनीज़ा हाशमी, जो कि मशहूर शायर फैज़ अहमद फैज़ की बेटी हैं, जैसी नामीचीन शख्सियत पर गिराये, उन्हें दिल्ली में एक सम्मेलन में शामिल होने से रोके, यहां तक कि उन्हें सम्मेलन …

Read More »

समाज को अलग तरह से देखने वाले मंटो कहे जाते थे अफसानों के उस्ताद

सआदत हसन मंटो की आज जयंती है. उनका जन्म 11 मई 1912 को हुआ था. वह उर्दू के सबसे बड़े कलमनिगार थे. उन्होंने अपनी कलम से ऐसी रचनाएं लिख डालीं जिसे आज तक याद किया जाता है. उनकी लिखावट बहुत लोगों के लिए आग है तो वहीं कइयों के लिए …

Read More »

पाकिस्तान के मशहूर शायर फैज अहमद फैज़ की बेटी को दिल्ली में एक इवेंट में भाग लेने से रोका गया

पाकिस्तान के मशहूर उर्दू शायर फैज़ अहमद फैज़ की बेटी को एक सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए दिल्ली आने का न्योता दिया गया तो उन्हें वो प्यार नहीं मिला. फैज अहमद फैज़ की बेटी मोनीज़ा हाशमी जानी-मानी टीवी और मीडिया पर्सनालिटी है. उन्हें इन दिनों दिल्ली में चल रहे 15 वें …

Read More »

कहानी : लोकतंत्र वयवस्था के माध्यम से बंदर बना जंगल का राजा

इस कहानी में लोकतंत्र के माध्यम से जंगल में बंदर को राजा बनने की कहानी बताई गई है। एक जंगल में बंदरों की बहुत आबादी थी सारे जानवरों में से बंदरों की आबादी ज्यादा हो चुकी थी। जब पूरी दुनिया में लोकतन्त्र की धूम मची हुई थी पूरी दुनिया लोकतन्त्र …

Read More »

वाराणसी के संकट मोचन मंदिर द्वारा दिया गया ‘शांतिदूत’ पुरस्कार मेरे लिए गर्व की बात : जावेद अख्तर

मुंबई : पटकथा लेखक, गीतकार और सामाजिक कार्यकर्ता जावेद अख्तर ने वाराणसी के संकट मोचन मंदिर द्वारा दिए गए ‘शांतिदूत’ पुरस्कार प्राप्त कर उन्हें ट्रोल करने वालों को करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि उन्हें इस पुरस्कार पर गर्व महसूस हो रहा है। यह पुरस्कार शांति के लिए काम …

Read More »

ऊर्दू पढ़ने वालों के लिए बड़ी खबर, ई- किताब ऐप्स लॉन्च

राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद की ओर से पांचवां विश्व उर्दू सम्मेलन शुरू हो गया है। इसमें भारत समेत 18 देशों के उर्दू के विद्वान, शायर, पत्रकार और जानकार हिस्सा ले रहे हैं। सोमवार तक होने वाले उर्दू सम्मेलन की थीम ‘उर्दू भाषा, संस्कृति और वर्तमान वैश्विक समस्याएं’ हैं। सम्मलेन …

Read More »

देश के जाने-माने कवि केदारनाथ सिंह का निधन

आधुनिक हिंदी साहित्य के मशहूर कवि और लेखक केदारनाथ सिंह का सोमवार शाम दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में निधन हो गया। उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के चकिया में एक जुलाई 1934 में जन्मे सिंह को वर्ष 2013 में भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार पाने वाले …

Read More »

‘दिन भर में एक पल भी ऐसा नहीं ग़ुज़रता, जब वो सामने हो और मैं उसे न देखूं’

मैं अकसर ये सोचा करता हूं, काश उसे बता पाऊं कि वो कितनी सुंदर है। अहसास कराऊं कि उसे जीवनसाथी, दोस्त, पत्नी के रूप में पाकर मैं दुनिया का सबसे ख़ुशनसीब इंसान हूं। जब भी उसे देखता हूं उससे फिर से प्यार हो जाता है। पिछले 14 सालों से मैं …

Read More »

सूफी संगीत का त्यौहार जहां-ए-खुसरू हुमायूँ मकबरे के परिसर में

नई दिल्ली : जहां-ए-खुसरू, वार्षिक विश्व सूफी संगीत महोत्सव 2001 में दिल्ली में शुरू किया गया था। फिल्म निर्माता-चित्रकार मुजफ्फर अली द्वारा निर्देशित, जहां-ए-खुसरू दिल्ली के सांस्कृतिक कैलेंडर में एक नियमित विशेषता रहा है इस त्यौहार को पूरे विश्व में सूफी परंपराओं के प्रतिष्ठित कलाकारों की मेजबानी करने का गौरव …

Read More »

आरएसएस की किताब का विवादास्‍पद दावा, जीजस क्राइस्‍ट तमिल हिंदू थे

मुंबई। मुंबई के एक दक्षिणपंथी ट्रस्‍ट ने 1946 की किताब को फिर से जारी कर दावा किया है कि जीजस क्राइस्‍ट का जन्‍म तमिल हिंदू के रूप में हुआ था। यह दावा राष्‍ट्रीय स्‍वयं सेवक संघ के संस्‍थापकों में से एक ने किताब में किया। क्राइस्‍ट परिचय नाम की इस …

Read More »

साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता – हिंदू चरमपंथियों को बढ़ावा दे रही है भाजपा सरकार

साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता लेखक के. पी. रामानुन्नी का कहना है कि भाजपानीत केंद्रीय सरकार अप्रत्यक्ष रूप से हिंदू सांप्रदायिक चरमपंथियों के खिलाफ कार्रवाई करने से बच रही है और उन्हें बढ़ावा दे रही है। इस वजह से देश में अल्पसंख्यकों में असुरक्षा की भावना बढ़ी है। रामानुन्नी ने आईएएनएस …

Read More »

उर्दू हेरिटेज फेस्टिवल: 15 फरवरी से कनॉट प्लेस में आयोजित किया जाएगा!

नई दिल्ली: क्षेत्रीय बाधा को तोड़कर, पहली बार वालड सिटी के बाहर उर्दू हेरिटेज फेस्टिवल का आयोजन किया जाएगा। प्रसिद्ध उर्दू कवि, सूफी और कव्वाली गायकों सहित 50 से अधिक कलाकार, 15 फरवरी से कनॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क में छह दिवसीय समारोह में प्रदर्शन करेंगे। दिल्ली के साथ भाषा …

Read More »

‘पूछते हैं वो कि ग़ालिब कौन है’……

लखनऊ। ‘हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन, दिल को खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख्याल अच्छा है’, आप भले ही उर्दू शायरी के मुरीद न हों पर यह कहना ज़रा मुश्किल होगा कि आपने ग़ालिब का नाम ही न सुना हो। ग़ालिब और शायरी के इश्क के चर्चे हर …

Read More »

आज के दिन दुनिया छोड़ गए थे आम आदमी के शायर निदा फ़ाज़ली….

घर से मस्‍जिद है बहुत दूर चलो यूं कर लें, किसी रोते हुए बच्‍चे को हंसाया जाए… जब यह शेर निदा ने एक बार पाकिस्तान में पढ़ा तो इस पर कट्टरपंथियों ने यह कह कर उनका विरोध किया कि क्या बच्चा अल्लाह से बढ़कर है? तब निदा फाजली ने जो …

Read More »

जानें कौन हैं कमला सुरैया जिनका गूगल ने बनाया डूडल, इस्लाम अपनाने पर हुआ था हंगामा !

अंगेज़ी और मलयालम की जानी मानी लेखिका कमला सुरैया के कार्यों को गूगल ने डूडल बना कर याद किया है. आज गूगल ने कवित्री और लेखिका कमला दास की वह आत्मकथा जिसने भारत में हंगामा कर दिया था। “माई स्टोरी,” की प्रकाशन तिथि पर 1976 में रिलीज करते हुए आज …

Read More »

हिंदू धर्म जाति के लिए बनाया गया एक धर्म है: सुजाता गिडला

भारत में जाति हम जिस हवा में साँस लेते हैं और जिस पानी से हम पीते हैं, वह लोगों की तरह हम शादी करते हैं, और हम मृत्यु के बाद याद करते हैं। और सबसे महत्वपूर्ण बात, यह शर्म की आंत का अनुभव है। दलित परिवार में पैदा हुईं सुजाता …

Read More »

जेएलएफ 2018: अरब साहित्य और नस्लवाद का आतंकवाद!

लेबनीज-अमेरिकी लेखक राबिह अल्ममिडेन ने कहा है कि यह वास्तव में पश्चिमी सांस्कृतिक विषमता का परिणाम था। उन्होंने कहा, “संयुक्त राज्य अमेरिका में, लोगों को यह भी नहीं पता है कि अरब दुनिया कहां है मुझे पूछा गया है कि लेबनान लैटिन अमेरिका में है।” उन्होंने दर्शकों से कहा, “वे …

Read More »

मेरे देश को समझने के लिए अफगान साहित्य को पढ़ें: करज़ई

जयपुर: अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई का कहना है कि अफगानिस्तान के बारे में पश्चिमी देशों का नजरिया पूर्वाग्रह से प्रेरित हो सकता है अथवा उसमें प्रासंगिक समझ का अभाव हो सकता है। इसलिए अफगानिस्तान को समझने के लिए अफगान साहित्य को पढ़ना जरूरी है। जयपुर में आयोजित ‘जी’ जयपुर …

Read More »
TOPPOPULARRECENT