Editorial

तानाशाहों ने लोगों के चरित्र को बिगाड़ दिया! 1

तानाशाहों ने लोगों के चरित्र को बिगाड़ दिया!

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने देश के पूर्ववती सैन्य तानाशाहों को जनता का चरित्र बिगाड़ने के लिए जिम्मेदार ठहराया है।   खास खबर पर छपी खबर के अनुसार, हसीना

डॉक्टर वेदप्रताप वैदिक का लेख: ऊबाऊ भाषणों का दौर 4

डॉक्टर वेदप्रताप वैदिक का लेख: ऊबाऊ भाषणों का दौर

कल प्रधानमंत्री और आज वित्तमंत्री का भाषण सुना। दोनों भाषणों से आम जनता को जो उम्मीद थी, वह पूरी नहीं हुई।   प्रधानमंत्री का भाषण सभी टीवी चैनलों पर रात

"अहवाले वतन जफरुल इस्लाम की आवाज़ को दबाने की साजिश" 5

“अहवाले वतन जफरुल इस्लाम की आवाज़ को दबाने की साजिश”

हिंदुस्तान और इस्लामी दुनिया की जानी पहचानी शख्सियत और दिल्ली माइनरिटी कमीशन के चेयरमैन ‎डाक्टर जफरुल इस्लाम के खिलाफ़ दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने 30 अप्रैल को ताजीरात हिंद

पूर्व जस्टिस काटजू ने राष्ट्रीय सरकार बनाने का प्रस्ताव दिया! 6

पूर्व जस्टिस काटजू ने राष्ट्रीय सरकार बनाने का प्रस्ताव दिया!

कोरोनोवायरस महामारी के कारण स्थिति नियंत्रण से बाहर होने से पहले सेवानिवृत्त सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने बुधवार को केंद्र में तुरंत एक राष्ट्रीय सरकार बनाने का प्रस्ताव

'जब उपराष्ट्रपति नायडू ने मुझे फोन किया, मैं कैसे कर रहा हूं' 7

‘जब उपराष्ट्रपति नायडू ने मुझे फोन किया, मैं कैसे कर रहा हूं’

यह अक्सर नहीं होता है कि किसी को भारत के उपराष्ट्रपति का फोन आता है। इसलिए, जब मेरा मोबाइल फोन सोमवार की देर शाम को आया और फोन करने वाले

बाबरी के नाम पर तथाकथित मुस्लिम नेतृत्व ने मुसलमानों को दूसरे दर्जे का शहरी बना दिया 8

बाबरी के नाम पर तथाकथित मुस्लिम नेतृत्व ने मुसलमानों को दूसरे दर्जे का शहरी बना दिया

ज़फर आग़ा  दिसंबर 6, भारतीय राजनीति का वह संगमील है, जिसने भारतीय राजनीति की काया पलट दी। इसी रोज 1992 को अयोध्या में मुगलशाही संस्थापक बाबर के दौर की एक

जब भाजपा के नेता सरकार गिराने में व्यस्त थे, तब राहुल ने देश को कोरोना के खतरे से आगाह किया 9

जब भाजपा के नेता सरकार गिराने में व्यस्त थे, तब राहुल ने देश को कोरोना के खतरे से आगाह किया

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना की संपादकीय में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की प्रशंसा की। संपादकीय में लिखा कि राहुल गांधी ने कोरोनावायरस पर सकारात्मक रुख अपनाया और दिखाया कि संकट के

लॉकडाउन में मजदूरों ने पुरे देश को आकर्षित किया! 10

लॉकडाउन में मजदूरों ने पुरे देश को आकर्षित किया!

लॉकडाउन प्रवासी श्रमिकों को परिभाषित करते हुए मंगलवार दोपहर को बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर मुंबई में सैकड़ों लोग सड़क पर आए और मांग की कि उन्हें उनके घरों में

ऐसा लगता है कि भारत का मीडिया मुसलमानों के पीछे पड़ गया है 12

ऐसा लगता है कि भारत का मीडिया मुसलमानों के पीछे पड़ गया है

‘इंडिया टुडे’ के टीवी चैनल के न्यूज़ एडिटर राहुल कंवल ने ‘मदरसा हॉटस्पॉट’ नामक जो कार्यक्रम बनाया है उसके खिलाफ एक्टिविस्ट कविता कृष्णमूर्ति का वीडियो अभियान बिलकुल मौजूं है. भारत का मीडिया

'बिमारी से दूरी अपनाएं, समाजिक दूरी नहीं' 13

‘बिमारी से दूरी अपनाएं, समाजिक दूरी नहीं’

जब से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च, 2020 को कोविद -19 से लड़ने के लिए राष्ट्रीय तालाबंदी की घोषणा की और घोषणा की कि “सोशल डिस्टेंसिंग”   भारत

भारतीय लोकतंत्र की नाकामी हैं दिल्ली के दंगे- डॉ. वेदप्रताप वैदिक 14

भारतीय लोकतंत्र की नाकामी हैं दिल्ली के दंगे- डॉ. वेदप्रताप वैदिक

दिल्ली में दो संप्रदायों के बीच इस तरह का दंगा हो सकता है, इसकी कल्पना ही हमारे लोकतंत्र को कलंकित करने के लिए काफी है।   1947 में विभाजन के

मिर्ज़ा शिबली बेग का ब्लॉग- 'राब्ता आलमे इस्लामी का असाधारण क़दम' 15

मिर्ज़ा शिबली बेग का ब्लॉग- ‘राब्ता आलमे इस्लामी का असाधारण क़दम’

राब्ता आलमे इस्लामी के सेक्रेट्री जनरल डॉक्टर मोहम्मद बिन अब्दुल करीम अल ईसा के नेतृत्व में मुसलमानों के एक प्रतिनिधि मंडल ने होलोकास्ट के स्मारक ऑशविट्ज़ का दौरा किया।  

बर्लिन सम्मेलन - लीबिया में अमन की राह के रोड़े 16

बर्लिन सम्मेलन – लीबिया में अमन की राह के रोड़े

जर्मनी की राजधानी बर्लिन में 19 जनवरी को लीबिया की समस्या पर शिखर सम्मेलन हुआ। इस सम्मेलन का आयोजन संयुक्त राष्ट्र के महासचिव और जर्मनी की चांसलर ने संयुक्त रूप से किया। इसमें यूरोपियन यूनियन, अफ्रीकन यूनियन और अरब लीग को भी बुलाया गया

डॉ उदित राज का ब्लॉग: 'बात निकलेगी तो दूर तलक जाएगी' 17

डॉ उदित राज का ब्लॉग: ‘बात निकलेगी तो दूर तलक जाएगी’

बात बात पर मुसलमानों से कहा जा रहा है कि पाकिस्तान चले जाएँ . मेरठ के पुलिस अधिकारी ने कहा कि वो पाकिस्तान चले जाएँ. भले ही अपने दूषित मानसिकता

डॉ उदित राज का लेख- 'आखिर हिन्दू “बेचारे” कैसे हो गए?' 19

डॉ उदित राज का लेख- ‘आखिर हिन्दू “बेचारे” कैसे हो गए?’

नागरिकता संशोधन कानून कि वैधता के लिए संघ और भाजपा गला फाड़ फाड़ कर कह रहे हैं कि हिन्दुओं का दुनिया में एकमात्र देश है क्या वह भी हिन्दू राष्ट्र

टुकड़े- टुकड़े बॉलीवुड! 20

टुकड़े- टुकड़े बॉलीवुड!

हर कोई – शीर्ष राजनेताओं और “राष्ट्रवादी” टीवी एंकरों को छोड़कर – अब एक टुकडे टुकडे गिरोह के सदस्य की तरह दिखता है   सुपरस्टार दीपिका पादुकोण ने विरोध प्रदर्शन

मिर्ज़ा शिबली बेग का ब्लॉग- कुवालालंपुर सम्मेलन 'आशाएं और आशंकाएं' 21

मिर्ज़ा शिबली बेग का ब्लॉग- कुवालालंपुर सम्मेलन ‘आशाएं और आशंकाएं’

” हम पूरी दुनिया में मुसलमानों की ज़िन्दगयां आसान बनाना चाहते हैं और इस्लामोफोबिया पर क़ाबू पाना चाहते हैं ।” ” हमें ऐसे रास्ते तलाश करने होंगे जिससे हम अपनी

रवीश कुमार का लेख: क्यों नहीं यूपी बिहार में पाक, अफ़ग़ान और बांग्लादेश के हिन्दुओं को बसाया जाए? 22

रवीश कुमार का लेख: क्यों नहीं यूपी बिहार में पाक, अफ़ग़ान और बांग्लादेश के हिन्दुओं को बसाया जाए?

असमिया कौन है, क्या है, यह समझने के लिए कौशिक डेका के इस लेख को पढ़िए। बहुत आसान अंग्रेज़ी में है। कौशिक कहते हैं कि हमने अपनी पहचान की ख़ातिर ही भारत