Thursday , May 24 2018

अंजुमन‌ महबान उर्दू का आलमी मुशायरा , तैय्यारियां मुकम्मल

हैदराबाद १८ मई : ( प्रैस नोट ) : अंजुमन महबान उर्दू का तीसरा आलमी मुशायरा 21 मई 7 बजे शाम ललीता कलाथोरानम बाग़ आम्मा की तैय्यारीयां मुकम्मल होगई हैं । सय्यद मिस्कीन अहमद कन्वीनर ख़लीक़ अलरहमन सदर नशीन मुशावरती कमेटी की निगरानी में ज़े

हैदराबाद १८ मई : ( प्रैस नोट ) : अंजुमन महबान उर्दू का तीसरा आलमी मुशायरा 21 मई 7 बजे शाम ललीता कलाथोरानम बाग़ आम्मा की तैय्यारीयां मुकम्मल होगई हैं । सय्यद मिस्कीन अहमद कन्वीनर ख़लीक़ अलरहमन सदर नशीन मुशावरती कमेटी की निगरानी में ज़ेली कमेटियां मसरूफ़ हैं । तमाम मदावीन बैरून-ए-मलिक और हिंदूस्तान से 21 मई को हैदराबाद पहूंचेंगे ।

उस्ताद शायर असीर बरहानपुरी ( मुंबई ) तीन दहों बाद हैदराबाद आरहे हैं जो गुज़शता तमाम बरसों में मलिक और बैरून-ए-मुल्क मुशाविरों में अपने कलाम से धूम मचा रहे हैं । क़ुतर के नामवर शायर , अदबी सरगर्मीयों के रूह रवांनदीम माहिर 21 मई की सुबह क़ुतर से हैदराबाद पहूंचेंगे ।

अंजुमन के मुशायरे मलिक के चुनिंदा मुशाविरों में शुमार किए जाते हैं । अंजुमन अपने महिदूद वसाइल के बावजूद दाख़िला की आम इजाज़त रखते हुए बेहतर इंतिज़ामात का रिकार्ड रखती है । यही वजह है कि इबतदा-ए-से इख़तताम तक सामईन अंजुमन से तआवुन करते हैं ।

मुशायरा के आग़ाज़ के लिए इलहाबाद की शायरा फरहीन फ़ातिमा को मदऊ किया गया है जो एक ख़ानगी उर्दू चिया नल के कल हिंद नाअतिया मुक़ाबलों में इनाम अव्वल हासिल कीं थीं उन की नाअतसे आग़ाज़ होगा और इबतिदा से आख़िर तक तहत अललफ़ज़ और तरन्नुम से मुंतख़बशारा-ए-मुशायरे को हसब रिवायत अपनी बुलंदीयों तक पहूँचा देंगे ।

जिस के लिए डाक्टर कलीम क़ैसर निज़ामत करेंगे । उर्दू और हिन्दी के शारा-ए-, तमाम आली अदबी रवायात , हैदराबादी तहज़ीब के साथ कलाम से मुशायरा को यादगार बनाएंगे । मुहम्मद ज़हीर उद्दीन इक़बाल , मुआविन , मुहम्मद सिराज उद्दीन , ख़्वाजा पाशाह ने प्रुस्तार इन शेअर से ख़ाहिश की है कि वक़्त मुक़र्ररा परमा अहबाब तशरीफ़ য৒ब लाएंगे मुशायरा इबतिदाई रस्मी कार्रवाई के बाद शुरू होगा ।।

TOPPOPULARRECENT