Tuesday , December 12 2017

अकबरुद्दीन ओवैसी की अदालत में पेशी

हैदराबाद 26 फरवरी: रुकने असेंबली अकबरुद्दीन ओवैसी अदालत में पेश हुए और उन पर हमला के मुताल्लिक़ मुक़द्दमे में अकबर ओवैसी से जरह की गई। वाज़िह रहे कि पिछ्ले पेशी में अकबर ओवैसी ने अपना बयान दर्ज करवाया था और उनसे मुहम्मद पहलवान के वकील दिफ़ा मुज़फ़्फ़र उल्लाह ख़ां शफ़ाअत ने अकबर ओवैसी से जरह की। अदालत के अहाते में ग़ैरमामूली सिक्योरिटी इंतेज़ामात देखे गए क्युं कि एक ही वक़्त में अकबर ओवैसी और मुबय्यना धमकी देने वाले मुहम्मद पहलवान और उनके साथी भी अदालत में मौजूद थे।

कमरा-ए-अदालत में दोनों फ़रीक़ैन की एक साथ मौजूदगी के सबब पुलिस की तरफ से ग़ैरमामूली सिक्योरिटी इंतेज़ामात किए गए थे और अदालत में मुअज़्ज़िज़ जज के सामने मुहम्मद पहलवान के वकील दिफ़ा मुज़फ़्फ़र उल्लाह ख़ां शफ़ाअत ऐडवोकेट ने अकबर ओवैसी से उनकी शिकायत और इस से मुताल्लिक़ जरह की। अकबर ओवैसी ने जब 22 फरवरी को अपना बयान दर्ज करवा दिया था, इस में बर्क़ न्यूज़ का हवाला दिया और शिकायत-ओ-अकबर ओवैसी के बयान के मुताबिक़ बर्क़ न्यूज़ पर मुहम्मद पहलवान ने बयान का हवाला दिया था। इस ताल्लुक़ से मुहम्मद पहलवान के वकील दिफ़ा मुज़फ़्फ़र उल्लाह ख़ां शफ़ाअत ने अकबर ओवैसी से जरह में हवाले तलब किए। एडवोकेट मुज़फ़्फ़र उल्लाह ख़ां शफ़ाअत ने कहा कि मुहम्मद पहलवान ने किसी न्यूज़ चैनल या फिर कोई बर्क़ न्यूज़ को अपना इंटरव्यू-ओ-बयान नहीं दिया था। ये फ़र्ज़ी और तोड़-मरोड़ कर तैयार करदा बयान है।

मुज़फ़्फ़र अल्लाह ख़ां शफ़ाअत ने अदालत को बताया कि उनके मुवक्किल ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया जिस बयान से उनके मुवक्किल को जोड़ा जा रहा है। वो फ़र्ज़ी है और झूट का पलंदा है। उन्होंने बताया कि साज़िश के तहत उनके मुवक्किल और उनके अफ़राद-ए-ख़ानदान को हिरासाँ किया जा रहा है और मुबय्यना तौर पर उस वक़्त हुकूमत से मिलकर ऐसी हरकत की गई। जरह की तकमील के बाद अदालत ने

आइन्दा समाअत 29 फरवरी को मुक़र्रर की है। कमरा-ए-अदालत के अलावा अहाता-ए-अदालत में भी पुलिस ने सख़्त चौकसी इख़तियार की हुई थी। अगरचे दोनों ग्रुपस के बीच सिक्योरिटी का हिसार था।

जैसे ही मुक़द्दमा की समाअत की तारीख़ दी गई, कमरा-ए-अदालत के बाहर पुलिस दोनों फ़रीक़ैन के बीच दीवार बन गई थी और सख़्त सिक्योरिटी के बीच दोनों फ़रीक़ैन को अदालत से बाहर लाया गया। इस मुक़द्दमे की आइन्दा समाअत 29 फरवरी को मुक़र्रर की गई है।

TOPPOPULARRECENT