Monday , December 11 2017

अकबर ओवैसी को हलाक करने के मंसूबा नहीं, डाकुओं की टोली गिरफ्तार

बैंगलूर पुलिस ने रुक्ने असेंबली चंदरायन गुट्टा अकबरुद्दीन ओवैसी को हलाक करने के मुजरिमीन की टोली के मंसूबों के दावे को मुस्तरद कर दिया और कहा कि डाकूओं की एक टोली को बेनकाब किया गया है।

बैंगलूर पुलिस ने रुक्ने असेंबली चंदरायन गुट्टा अकबरुद्दीन ओवैसी को हलाक करने के मुजरिमीन की टोली के मंसूबों के दावे को मुस्तरद कर दिया और कहा कि डाकूओं की एक टोली को बेनकाब किया गया है।

पुलिस की तहवील से फ़रार होने की कोशिश में एक डाकू फायरिंग में ज़ख़्मी होगया है। ज़िला अनंतपुर की हिंदुपुर पुलिस ने बैंगलूर सिटी पुलिस के हमराह मुशतर्का कार्रवाई करते हुए कर्नाटक के बदनाम-ए-ज़माना मुजरिम कोनिगल गिरी गैंग का असल सरग़ना कोनिगल गिरी और इस के साथियों को गिरफ़्तार करने में कामयाबी हासिल करली।

बैंगलूर को मुंतक़ली के दौरान गिरी के एक साथी गोविंदा ने पुलिस तहवील से ज़रूरीयात से फ़ारिग़ होने के बहाने फ़रार होने की कोशिश की जिस के नतीजे में बैंगलूर पुलिस ने इस पर फायरिंग की और वो ज़ख़्मी होगया और उसे बैंगलूर के एक दवाख़ाना में ईलाज के लिए शरीक किया गया है।

कमिशनर पुलिस बैंगलूरराघवीनदरा ओराडकर ने नुमाइंदा सियासत को बताया कि गिरफ़्तार गैंग का मजलिस के रुकने असेंबली अकबर उद्दीन ओवैसी पर मुबय्यना हमले की साज़िश से कोई ताल्लुक़ नहीं है और हैदराबाद में बाज़ चैनल्स पर पेश करदा ख़बर को झूट और बेबुनियाद क़रार दिया।

उन्होंने हैदराबाद के मख़सूस चैनल्स पर मुजरिमाना साज़िश की ख़बरों के ज़रीये सनसनी फैलाने पर हैरत का इज़हार किया है। तफ़सीलात के बमूजब कोनीगल गिरी कर्नाटक का बदनाम-ए-ज़माना मुजरिम है और वो बैंगलूरसिटी में 90 वारदातें अंजाम दे चुका
है।

अप्रैल में इसी गैंग के अरकान ने बैंगलूरके एक मशहूर सॅटॅलाइट कलब पर हमला करते हुए वहां से नक़द रक़म और तिलाई जे़वरात लूट लिए थे। गिरी जारीया साल जनवरी में पार अपना आग्रह हारा सेंट्रल जेल से ज़मानत पर रिहा होकर अचानक रुपोश होगया।

बेल्लारी जेल में इस ने वहां के सुपरिन्टेन्डेन्ट पर हमला किया था जिस के बाइस उसे दूसरी जेल मुंतक़िल किया गया था।
बैंगलूरपुलिस को गिरी की 27 सफ़हात की डायरी भी हाथ लगी थी जिस के ज़रीये पुलिस को ये पता लगा हैके इस ने किराये के क़ातिलों के ज़रीये सेना उर्फ़ डिब्बा सीना को क़त्ल करने का मंसूबा बनाया था।

डायरी के ज़रीये पुलिस को इस के जुर्म के तरीका-ए-कार का भी पता लगा है। वाज़िह रहे कि बैंगलूरसिटी पुलिस ने 24 अप्रैल को 10 अरकान पर मुश्तमिल डाकूओं की टोली को गिरफ़्तार किया था और उनकी तफ़तीश में पुलिस को ये इत्तिला मिली थी कि इन का ताल्लुक़ बदनाम-ए-ज़माना कोनीगल गिरी गैंग से है।

पुलिस को तफ़तीश के दौरान इस बात का इन्किशाफ़ हुआ था कि गिरफ़्तार डाकूओं की टोली एक बड़े डकैती का मंसूबा तैयार कररही थी ताके हिंदुस्तान भर में हता के वज़ीर-ए-आज़म को भी अपना वजूद साबित करना चाहते थे।

बताया जाता हैके चंद अर्सा पहले गिरी को पुलिस ने गिरफ़्तार करने की कोशिश की थी लेकिन वो अपने दुसरे साथीयों गोवीनद , भरत , जगदीश , श्रीनिवास के हमराह पुलिस कांस्टेबल पर हमला करके वहां से बच निकलने में कामयाब होगया था।

गिरफ़्तार डाकूओं की टोली की तफ़तीश से पुलिस को इस बात का पता चला कि गिरी अपने दुसरे साथीयों के हमराह ज़िला अनंतपुर के इलाके हिंदूपुर में पनाह लिए हुए है और इस अहम इत्तिला मिलने पर कमिशनर पुलिस बैंगलूरराघवीनदरा ने वहां के जवाइंट कमिशनर निंबालकर की क़ियादत में एक टीम जिस में इन्सपेक्टरान सकरी , रनगपा , बालेगुड़ा , प्रशांत और सत्यनारायना को यहां भेजा।

बैंगलूरपुलिस की आमद की इत्तेला मौसूल होने पर गिरी वहां से फ़रार होने की कोशिश कररहा था कि वो हादसे का शिकार होगया और ज़ख़मी होगया।

बावसूक़ ज़राए ने बताया कि बैंगलूर सिटी पुलिस ने हिंदुपुर पुलिस की मदद से सदाशीवनगर में वाक़्ये करो पाकर रेड्डी के मकान में धावा करते हुए गिरी वासू जगदीश और गोविन्द को गिरफ़्तार करलिया पुलिस ने धावे के दौरान मुजरिमीन के क़ब्जे से पिस्तेल और कारतूस भी बरामद किए हैं।

कमिशनर पुलिस हैदराबाद अनुराग शर्मा ने मजलिस रुकने असेंबली को बैंगलूरके किराये के क़ातिलों की तरफ से हलाक करने के मंसूबा को ग़लत क़रार दिया और बताया कि उन्होंने कमिशनर पुलिस बैंगलूरसे राबिता क़ायम किया है जिस से उन्हें मालूम हुआ हैके हिंदुपुर में गिरफ़्तार अफ़राद का ताल्लुक़ गिरी गैंग से है।

TOPPOPULARRECENT