अक़लीयती बहबूद के बजट ख़र्चः अहमदुल्लाह की ब्रहमी

अक़लीयती बहबूद के बजट ख़र्चः अहमदुल्लाह की ब्रहमी
रियासत में अक़लीयती बहबूद के लिए मुख़तस बजट के ख़र्च के सिलसिले में अक़लीयती इदारों की अदम तवज्जही पर वज़ीरे अक़लीयती बहबूद मुहम्मद अहमदुल्लाह ने सख़्त ब्रहमी का इज़हार किया। उन्हों ने तमाम अक़लीयती इदारों की कारकर्दगी का जायज़ा

रियासत में अक़लीयती बहबूद के लिए मुख़तस बजट के ख़र्च के सिलसिले में अक़लीयती इदारों की अदम तवज्जही पर वज़ीरे अक़लीयती बहबूद मुहम्मद अहमदुल्लाह ने सख़्त ब्रहमी का इज़हार किया। उन्हों ने तमाम अक़लीयती इदारों की कारकर्दगी का जायज़ा लेने 10 दिसंबर को जायज़ा इजलास मुनाक़िद करने का फ़ैसला किया है।

वज़ीरे अक़लीयती बहबूद ने बताया कि हुकूमत ने जारीया मालीयाती साल अक़लीयती बहबूद के लिए 1027 करोड़ रुपये मुख़तस किए हैं लेकिन अफ़सोस कि अक़लीयतों के लिए मुख़तस कई अहम स्कीमात अभी तक शुरू नहीं की गईं। खासतौर पर अक़लीयती फ़ाइनेन्स कारपोरेशन और क्रिस्चन फ़ाइनेन्स कारपोरेशन की कारकर्दगी पर उन्हों ने अदम इतमीनान का इज़हार किया।

अहमदुल्लाह ने बताया कि कमिशनर अक़लीयती बहबूद शेख़ मुहम्मद इक़बाल ने भी उन्हें अक़लीयती इदारों की कारकर्दगी के बारे में रिपोर्ट पेश की है। उन्हों ने बताया कि अब जबकि मालीयाती साल के इख़तेताम के लिए चार माह बाक़ी रह गए हैं हुकूमत मुकम्मल बजट के ख़र्च को यक़ीनी बनाने में संजीदा है और जायज़ा इजलास में इस सिलसिले में ओहदेदारों को सख़्त हिदायात जारी की जाएंगी।

उन्होंने कहा कि औकाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ के सिलसिले में वक़्फ़ ऐक्ट 1995 में जो तरमीमात की गई हैं अगर उन पर मोअस्सर अमल किया जाए तो रियासत में कई अहम औकाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाया जा सकता है।

Top Stories