Monday , December 18 2017

अक़लीयती बहबूद के लिऐ 2013-14 मे 1020 करोड़ रूये बजट की गुंजाइश

हैदरआबाद 07 मार्च: चीफ़ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने मालीयाती साल 2013-14 मे अक़लीयती बहबूद के बजट मे इज़ाफे के ज़रीये आइन्दा आम चुनाव मे कांग्रेस पार्टी को मुस्लिम अक़लीयत की ताईद हासिल करने की कोशिश की है।

हैदरआबाद 07 मार्च: चीफ़ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने मालीयाती साल 2013-14 मे अक़लीयती बहबूद के बजट मे इज़ाफे के ज़रीये आइन्दा आम चुनाव मे कांग्रेस पार्टी को मुस्लिम अक़लीयत की ताईद हासिल करने की कोशिश की है।

बावसूक़ ज़राए ने बताया कि चीफ़ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने अक़लीयती बहबूद के साथ साथ दीगर पसमांदा तबक़ात के बजट मे इज़ाफे की ना सिर्फ़ हिदायत दी बल्के वज़ारत फाइनेंस के ओहदेदारओं के साथ शख़्सी तौर पर बजट मे इज़ाफे का जायज़ा लिया। बताया जाता है कि चीफ़ मिनिस्टर ने अक़लीयती बहबूद के बजट मे इज़ाफे से पार्टी हाई कमान को भी वाक़िफ़ करादिया है और उन्हें इस बअत का यक़ीन दिलाया कि इस इज़ाफे से आइन्दा आम चुनाव मे एसम्बली और लोक सभा मे कांग्रेस पार्टी को फ़ायदा होगा। इसी दौरान महिकमा फाइनेंस ने दीगर मह्कमाजात के साथ साथ अक़लीयती बहबूद के बजट को भी तक़रीबन क़तईयत दे दी है।

बावसूक़ ज़राए के मुताबिक़ महिकमा फाइनेंस ने अक़लीयती बहबूद के ओहदेदारओं के साथ मीटिंग मे इबतेदा मे 1000करोड़ रूये की मंज़ूरी से इत्तिफ़ाक़ किया था लेकिन बजट की क़तईयत मे ये रक़म बढ़ कर 1020 करोड़ होगई है। ज़राए के मुताबिक़ एसम्बली मैं अक़लीयती बहबूद का बजट 1020 करोड़ पेश किया जाय गा जो कि आंध्र प्रदेश की तारीख़ का अक़लीयती बहबूद का अब तक का सब से बड़ा बजट होगा। दिलचस्प बात तु ये है कि महिकमा अक़लीयती बहबूद के ओहदेदारओं से जब बजट मे इज़ाफे से मुताल्लिक़ तजाईवेज़ दाख़िल करने के लिऐ कहा गया तु उन्हों ने जलदबाज़ी मे 1480 करोड़ की तजाईवेज़ दाख़िल की थीं लेकिन महिकमा फाइनेंस ने इन मे कई ख़ामीयों की निशानदही की और उसे 1020करोड़ तक महिदूद करदीय‌ है।

2012१3 मेअक़लीयती बहबूद का बजट 489करोड़ था।2013१4 मे बजट मे इज़ाफे के साथ साथ अक़लीयती बहबूद की बाअज़ नई स्कीमअत भी शुरू की गई हैं। ज़राए के मुताबिक़ नु क़ायम शूदा अक़लीयती कमिशनरीट के हैदरआबाद मे वाक़्ये हेडक्वार्टर के लिऐ 2.53 करोड़ और अज़ला मे क़ायम किऐ जाने वाले कमिशनरीट के दफ़ातिर के लिऐ 2.77 करोड़ रूये की गुंजाइश रखी गई है। क्रिस्चिन फाइनेंस कारपोरेशन के तहत मुख़्तलिफ़ वेलफ़ीर स्कीमअत बिशमोल ईसाईयों को यरूशलम रवानगी के लिए इमदाद की फ़राहमी के लिए 12.20 करोड़ रूये की तजवीज़ पेश की गई है।

ये तजवीज़ आज महिकमा फाइनेंस को दाख़िल की गई، अगर उसे मंज़ूरी हासिल होती है तु बजट मे शामिल किया जाय गा। मर्कज़ी हुकूमत के स्कालरशिप मे आंध्र प्रदेश की हिस्सादारी के तहत जारीये साल ये रक़म 40 करोड़ थी जिसे बढ़ा कर 70 करोड़ किया गया है। अक़लीयती तलबा के परी मेट्रिक और पोस्ट मेट्रिक स्कालरशिप के लिए जारीया साल 96 करोड़ रूये मुख़तस किए गए थे जबके 2013१4 मे 300 करोड़ रूये की गुंजाइश रखी गई है।

अक़लीयती तलबा को फ़ीस बाज़अदाईगी स्कीम के तहत बजट को 220 करोड़ से 320 करोड़ करने की तजवीज़ है। अक़लीयती गर्लज़ अक़ामती स्कूलस की तामीर के लिए बजट को 55 लाख से बढ़ा कर 60 लाख किया गया है। इस के अलावा मैस चार्जस मे भी इज़ाफ़ा की तजवीज़ है। मुस्लिम، ईसाई، पार्सी और सिखों की इजतिमाई शादीयों के फ़ंड को 1.20 करोड़ से बढ़ा कर 5 करोड़ करने की तजवीज़ बजट मे रखी गई है।

अक़लीयती फाइनेंस कारपोरेशन के तहत बैंकों से मरबूत स्कीमअत को सबसीडी की फ़राहमी के लिए बजट को 25 करोड़ से बढ़ा कर 118 करोड़ किया जाये गा। इस स्कीम के तहत मआशी तौर पर कमज़ोर अक़लीयतओं को क़र्ज़ की इजराई की हद 2 लाख तक बढ़ाई गई है।

इसी दौरान अक़लीयती बहबूद के चौथे सह माही के बजट की इजराई के बारे मे मुख़्तलिफ़ शुबहात का इज़हार किया जअरा है। एक तरफ़ हुकूमत ने आइन्दा साल बजट मे ज़बरदस्त इज़ाफ़ा तु करदी लेकिन जारीया साल की आख़िरी सह माही का बजट अभी तक जारी नहीं किया गया। महिकमा फाइनेंस के ओहदेदारओं का कहना है कि अक़लीयती इदारों ने अभी तक तीसरे सह माही के ख़र्च की तफ़सीलात दाख़िल नहीं की हैं जिस के बाइस चौथे सह माही का बजट जारी नहीं किया जासकता।

बताया जाता है कि फ़ीस बाज़अदाईगी और स्कालरशिप के लिए जो बजट मुख़तस किया गया था वो मुकम्मिल तौर पर ख़र्च नहीं हुआ है। इस के अलावा बाअज़ दीगर स्कीमअत के लिए मुख़तस रकुमात भी मुकम्मिल तौर पर ख़र्च नहीं की गईं، यही चीज़ चौथे सह माही के बजट की इजराई मे अहम रुकावट बनी हुई है।

महिकमा अक़लीयती बहबूद के ओहदेदारओं ने चौथे सह माही के बजट की इजराई के सिलसिले मे जब महिकमा फाइनेंस के सेक्रेटरी से नुमाइंदगी की तु उन्हों ने बजट की इजराई के सिलसिले मे कई ख़ामीयों और पेचीदगीयों की निशानदही की जिस के बाद अक़लीयती बहबूद के ओहदेदार इन ख़ामीयों को दूर करने मे जُट गए हैं।

बताया जाता है कि 2013-14 की बजट तजाईवेज़ की तैयारी मे क्रिस्चिन फाइनेंस कारपोरेशन के बारे मे बजट तजाईवेज़ मे बाअज़ खामियां की गईं जिस के बाइस महिकमा फाइनेंस ने क्रिस्चिन फाइनेंस कारपोरेशन की बाअज़ अहम स्कीमअत के बजट की तजवीज़ को रद्द करते हुऐ उसे सिफ़र करदी इस सिलसिले मे आज दुबारा नई तजाईवेज़ दाख़िल की गई हैं।

बावसूक़ ज़राए ने बताया कि अगर चौथे सह माही के बजट के हुसूल के लिए जल्द अज़ जल्द तजाईवेज़ तीसरे सह माही के ख़र्च के साथ दाख़िल नहीं की गईं तु होसकता है कि चौथे सह माही का बजट ख़तरे मे पड़ जाय। 489 करोड़ के बजट के ख़र्च मे अक़लीयती इदारों का ये हाल है तो फिर 1000 करोड़ की मंज़ूरी की सूरत मे वो किया इस रक़म को मूसर अंदाज़ मे बरवक़्त ख़र्च करपाइं गे और किया हुकूमत संजीदगी से मुकम्मिल बजट जारी करे गी?

TOPPOPULARRECENT