Tuesday , December 19 2017

अक़ल्लीयतों की तरक़्क़ी और ख़ुशहाली के लिए कांग्रेस की कामयाबी नागुज़ीर

वक़्त के साथ साथ राय दहिंदों की राय तब्दील हो रही है और पसमांदा ज़िला मुस्तक़र आदिलाबाद के राय दहिंदों में इस बात का एहसास जाग उठा है कि वो कांग्रेस उम्मीदवार सी रामचंद्र रेड्डी की कामयाबी के लिए कमरबस्ता हो गए हैं। ये बात मिस्टर अल

वक़्त के साथ साथ राय दहिंदों की राय तब्दील हो रही है और पसमांदा ज़िला मुस्तक़र आदिलाबाद के राय दहिंदों में इस बात का एहसास जाग उठा है कि वो कांग्रेस उम्मीदवार सी रामचंद्र रेड्डी की कामयाबी के लिए कमरबस्ता हो गए हैं। ये बात मिस्टर अलेटी महेश्वरा रेड्डी जो रात दिन मुस्तक़र आदिलाबाद में कैंप करते हुए ज़िमनी इंतेख़ाबात में कांग्रेस उम्मीदवार रामचंद्र रेड्डी की कामयाबी के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर लगा रहे हैं, कुछ देर के लिए निर्मल आए थे और आदिलाबाद में निर्मल के नुमाइंदा सियासत जलील अज़हर को दीए गए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक मुस्तहकम हुकूमत फ़राहम कर सकती है।

मैंने एक हफ़्ता से तमाम तब्क़ात के ज़िम्मेदारों से मुलाक़ात करते हुए इस बात का अंदाज़ा लगाया कि अवाम कारकर्दगी की बुनियाद पर अपने नुमाइंदा को मुंतखिब करने ज़हनी तौर पर तैयार हैं। आज पसमांदा ज़िला आदिलाबाद से रियासती काबीना में नुमाइंदगी ना होने के सबब भी तमाम तब्क़ात के राय दहिंदों की यही राय है कि अगर कांग्रेस के उम्मीदवार को कामयाब बनाएं तो यक़ीनन मिस्टर रामचंद्र रेड्डी रियासती काबीना में शामिल हो जायेंगे।

मिस्टर महेश्वरा रेड्डी ने सिलसिला गुफ़्तगु जारी रखते हुए अपोज़ीशन जमातों को शदीद तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि कांग्रेस ही वो वाहिद और सैक़्यूलर जमात है जिसने वायदे कम और अमल ज़्यादा कर दिखाया है। सारी रियासत में कांग्रेस के 2004 से जारीया कारनामों पर एक नज़र डाली जाये तो हर शख़्स को इस बात का बख़ूबी अंदाज़ा होगा कि आज एक मामूली शख़्स भी हुकूमत की इम्दाद पर कॉरपोरेट हॉस्पिटल में ईलाज करवा रहा है।

ये हुकूमत का कारनामा नहीं तो और क्या है? एल के जी में तालीम दिलाने के लिए अपने नौनिहालों को लोग परेशान रहते थे, आज हुकूमत ने तालीम का जाल ऐसा फैला दिया कि एक मामूली घराना मज़दूर घराना के तलबा-ए-भी हुकूमत की इम्दाद से तालीम दिलाई जा रही है।

बलासू दी क़र्ज़ के ज़रीया कई लोग ख़ुद कफील बन रहे हैं। रियासत का हर तबक़ा हुकूमत की कारकर्दगी से मुतमइन है। अपने ज़ाती मुफ़ादात की ख़ातिर मुख़ालिफ़ीन अवाम पर बार बार इंतेख़ाबात का बोझ डाल रहे हैं। बिलख़सूस अक़ल्लीयतों को सबज़ बाग़ दिखा रहे हैं, लेकिन अब अपोज़ीशन जमाअतें अपने मक़ासिद की तकमील नहीं कर सकते।

की उनका तमाम तबक़ात को ये बात मालूम हो चुकी है कि हुकूमत कौन कर सकता है और कौन किस के लिए फ़िक्रमंद है? उन्हों ने कहा कि कम वक़्त में मुझ को निर्मल के राय दहिंदों ने रुकन असेंबली मुंतखिब किया। आज में एक बुज़ुर्ग क़ाइद जिन के सयासी तजुर्बा को भी मेरी उम्र नहीं छू सकती, उनकी इंतेख़ाबी मुहिम में मेरा हिस्सा लेना मेरे नसीब की बात है।

भगवान ने ये मौक़ा मुझे दिया है। इसलिए में एक बुज़ुर्ग क़ाइद को कामयाबी से हमकनार कराने के लिए आप के दरमियान आया हूँ। ये कम उम्र क़ाइद बुज़ुर्ग की कामयाबी के लिए आप से परज़ोर अपील कर रहा है कि आप हज़रात बिलख़सूस तमाम बुज़ुर्ग दोस्त अहबाब मुस्लिम भाईयों, बहनों से गुज़ारिश करता हूँ कि वो रियासत आंधरा प्रदेश की तरक़्क़ी और अक़ल्लीयतों की ख़ुशहाली के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार‍ ओ‍ तज़ुर्बाकार सियासतदां-ओ-बुज़ुर्ग क़ाइद जनाब सी रामचंद्र रेड्डी को भारी अक्सरियत से कामयाब बनाते हुए कांग्रेस को ख़िदमत का मौक़ा दें।

TOPPOPULARRECENT