Saturday , September 22 2018

अक्लियतों की तरक़्क़ी पहले से ज्यादा : शाहिद अली खां

अक्लियती बोहबुद वज़ीर शाहिद अली खां ने राजद के रिपोर्ट कार्ड को बकवास बताते हुए कहा कि उसमें एमएसडीपी (मल्टी सेक्टोरेल डेवलपमेंट प्रोग्राम) के लिए मरकज़ को तजवीज नहीं भेजने का इल्ज़ाम सरासर झूठा है। पीर को प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्ह

अक्लियती बोहबुद वज़ीर शाहिद अली खां ने राजद के रिपोर्ट कार्ड को बकवास बताते हुए कहा कि उसमें एमएसडीपी (मल्टी सेक्टोरेल डेवलपमेंट प्रोग्राम) के लिए मरकज़ को तजवीज नहीं भेजने का इल्ज़ाम सरासर झूठा है। पीर को प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि राजद अपने 15 साल की तरक़्क़ी मंसूबाओं की रिपोर्ट कार्ड जारी करे। उससे कहीं ज़्यादा अक्लियतों की तरक़्क़ी मौजूदा हुकूमत में हो रहा है।

वज़ीर ने कहा कि एमएसडीपी के तहत नये 20 जिलों के लिए मर्कज़ को तजवीज़ भेजा जा चुका है। इसमें मर्कज़ की तरफ से इंतिख़ाब अक़लियत बहुल 10 शहरों और 75 ब्लॉक में से तीन शहरों और 53 ब्लॉक के लिए तजवीज़ तैयार कर रियासती सतह कमेटी से 28 सितंबर, 2013 को भेजा गया है, वहीं मर्कज़ी कमेटी से 12 नवंबर, 2013 को पारित किया जा चुका है।

मर्कज़ से रकम तक़सीम जल्द हासिल होने की उम्मीद है। बाक़ी सात शहरों और 22 ब्लॉक का तजवीज भेजा जा चुका है, जिस पर जल्द मंजूरी मिलने की उम्मीद है। इसके पहले 11वीं पंच साला मंसूबा में मुंतखिब सात जिलों के लिए 405 करोड़ रुपये हासिल हुए थे। उसमें से अब तक 295 करोड़ रुपये खर्च किये जा चुके हैं।

बिहार रियासत अक्लियत कमीशन के सदर नौशाद अहमद ने कहा कि अक्लियतों की मसायलों से मुतल्लिक़ इस साल 467 दरख्वास्त हासिल हुए हैं, जिन पर तेजी से कार्रवाई की जा रही है। अपने मुद्दत के दौरान तीन कॉपी रियासती हुकूमत को सौंपने का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा कि गुजिशत हुकूमत 15 सालों में एक भी कॉपी नहीं दे सकी थी।

TOPPOPULARRECENT