‘अगर मुसलमान अपनी जिंदगी इस्लाम के मुताबिक गुजारे तो दुनिया उसके सामने झूकी हुई नज़र आयेगी’

‘अगर मुसलमान अपनी जिंदगी इस्लाम के मुताबिक गुजारे तो दुनिया उसके सामने झूकी हुई नज़र आयेगी’

देवबंद में मदरसा जामियतुल कुदसियात लिलबनात में खत्म बुखारी शरीफ का आयोजन किया गया। इसमें छात्राओं को हदीस की सबसे बड़ी किताब बुखारी का अंतिम पाठ पढ़ाया गया।

रविवार को मोहल्ला गुजरवाडा स्थित मदरसे में कार्यक्रम में दारुल उलूम के उस्ताद ए हदीस मौलाना मुफ्ती अमीन पालनपुरी ने कहा कि अगर मुसलमान अपनी जिंदगी पूरी तरह इस्लाम की शिक्षाओं पर गुजारें तो पूरी दुनिया मुसलमानों के सामने झुकी हुई नजर आएगी।

पालनपुरी ने छात्राओं को बुखारी शरीफ का अंतिम पाठ पढ़ाते हुए कहा कि मुसलमानों को इस्लाम की शिक्षाओं पर जिंदगी गुजारनी चाहिए तभी मजहब का सही पालन होगा।

इस मौके पर संस्था के मोहतमिम कारी आमिर उस्मानी, मौलाना खलीलुर्रहमान, अब्दुल हफीज, कारी शफीकुर्रहमान, कारी वासिफ, अहमद आदि मौजूद रहे।

Top Stories