Sunday , November 19 2017
Home / India / अगर मैं गांधी परिवार से नहीं होता तो भाषण देने के बजाए भाषण सुनने वालों में होता- वरुण गांधी

अगर मैं गांधी परिवार से नहीं होता तो भाषण देने के बजाए भाषण सुनने वालों में होता- वरुण गांधी

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के महासचिव व सांसद वरुण गांधी ने कहा कि सत्ता परिवर्तन से ज्यादा व्यवस्था परिवर्तन की जरूरत है। वरुण ने कहा कि पूंजीपति बैंकों का पैसा हड़प रहे हैं और गरीब लोन लेकर सुसाइड कर रहे हैं। भाजपा सांसद ने कहा कि वह गांधी परिवार से न होते तो भाषण देने के बजाय भाषण सुनने वालो में होते।

मीडिया नेस्ट और सिटीजन फोरम इंडिया की ओर से हुए कॉन्कलेव में शामिल होने आए वरुण गांधी ने कहा कि निश्चित रूप से सत्ता परिवर्तन एक लक्ष्य है लेकिन ज्यादा महत्वपूर्ण व्यवस्था परिवर्तन है। हम ऐसे देश में रहते हैं जहां दो चेहरे दिखते हैं। एक चेहरा केरल के किसान टी जोसेफ का है जो कर्ज न चुका पाने की वजह से जेल गया, वहीं दूसरा चेहरा भगौड़े विजय माल्या का है जो कर्ज लेकर भाग गया। इसके लिए व्यवस्था ही जिम्मेदार है। वरूण गांधी ने कहा कि माल्या के भागने से परेशान किसान मनमोहन भी हुआ, जिसके बैंक खाते में मात्र 1200 रुपए थे और उसे माल्या का गारंटर दिखाया गया। मुझे लगता भी नहीं कि माल्या कभी देश वापस भी आएगा।

TOPPOPULARRECENT