Friday , December 15 2017

अग्नी IV न्यूक्लीयर मिज़ाईल का कामयाब तजुर्बा

बालासोर, २० सितंबर ( पी टी आई) हिंदूस्तान ने आज ओडीशा के साहिल पर वाक़्य ( स्थित) तजुर्बाती रेंज से न्यूक्लीयर सलाहीयत के हामिल अग्नी IV मिज़ाईल का तजुर्बा किया । ये मीज़ाईल 4000 किलो मीटर के फ़ासले तक वार कर सकता है । दिफ़ाई ज़राए ने कहा कि व्ह

बालासोर, २० सितंबर ( पी टी आई) हिंदूस्तान ने आज ओडीशा के साहिल पर वाक़्य ( स्थित) तजुर्बाती रेंज से न्यूक्लीयर सलाहीयत के हामिल अग्नी IV मिज़ाईल का तजुर्बा किया । ये मीज़ाईल 4000 किलो मीटर के फ़ासले तक वार कर सकता है । दिफ़ाई ज़राए ने कहा कि व्हीलर आईलैंड पर वाक़्य (स्थित) कामप्लेक़्स C4- दिन के 11 बजकर 45 मिनट पर मोबाईल लान्चर की मदद से ये तजुर्बा किया गया ।

मिज़ाईल के कंट्रोल और वार के लिए सही निशाना तक रहनुमाई के लिए एक आला सलाहयती कम्पयूटर , तेज़ रफ़्तार-ओ-काबिल-ए-भरोसा मुवासलाती बस और मुकम्मल डीजीटल कंट्रोल सिस्टम का इस्तेमाल किया गया । इदारा बराए दिफ़ाई तहक़ीक़ी-ओ-तरक़्क़ी ( डी आर डी ओ) के एक ओहदेदार ने कहा कि हिक्मत-ए-अमली की एहमीयत का हामिल ये मिज़ाईल इंतिहाई असरी-ओ-जामि हआ बाज़ी निज़ाम से आरास्ता ( सुसज्जित) है जिससे इस की कारकर्दगी पर एतबार की आला तरीन सतह को यक़ीनी बनाया जा सका है ।

ज़राए ने कहा कि सही निशाना पर वार के लिए उस की रहनुमाई के निज़ाम को जदीद तरीन ( आधुनिक/ नई) टेक्नालोजी पर मबनी रंग लेज़र गायरोस और माईक्रो नेवीगेशन सिस्टम से लैस किया गया है ।

एक दिफ़ाई साईंसदान ( Defence Scientist) ने कहा कि ये इंतिहाई असरी मिज़ाईल वज़न में कम है। मिज़ाईल को आगे बढ़ाने की सलाहीयत में इज़ाफ़ा के लिए स्केल क़ुव्वत साएक़ा के दो मरहले हैं । पे लोड पर एक ऐसी ढाल इस्तेमाल की गई है जो 3000 डिग्री सेल्सियस से ज़ाइद दर्जा हरारत बर्दाश्त कर सकती है । इस मिज़ाईल पर फ़िलहाल डी आर डी ओ के मुख़्तलिफ़ तजुर्बे किए जा रहे हैं । क़ब्लअज़ीं अग्नी IV मिज़ाईल का ऐसा ही एक तजुर्बा /15 नवंबर 2011 को किया गया था जो कामयाब रहा ।

TOPPOPULARRECENT