Monday , January 22 2018

अदालत ने कहा बुखारी शाही इमाम होने का फायदा नहीं उठा सकते, इसलिए तर्कहीन दलीलें न दे

नई दिल्ली: दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी के खिलाफ दिल्ली की एक अदालत ने उनके खिलाफ एक अपराधिक मामले को खारिज करने से इंकार कर दिया है। कोर्ट ने कहा है कि वह मस्जिद के इमाम होने का लाभ नहीं उठा सकते और सांप्रदायिक तनाव के ‘मनगढ़ंत’ खतरे की आड़ में अदालत को बेवकूफ नहीं बना सकते।

इमाम बुखारी द्वारा कही गई सांप्रदायिक तनाव की बात को ‘मजाकिया’ करार देते हुए अदालत ने दलील को भी खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि उनको जेड प्लस सिक्योरिटी मिली हुई है और अगर उनको सुनवाई के लिए अदालत में आना पड़ा तो उन्हें असुविधा होगी। जिसे खारिज करते हुए अदालत ने बुखारी को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उपाध्यक्ष राहुल गाँधी की उदारहण दी जिसमें उन्हें नेशनल हेराल्ड केस के तहत आरोपी के तौर पर अदालत में पेश होना पड़ा था

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश लोकेश कुमार शर्मा ने कहा कि सोनिया गाँधी और राहुल को भी सुरक्षा का काफी खतरा है लेकिन वे भी किसी असुविधा के बिना अदालत में पेश हुए थे। आपको बता दें की इमाम बुखारी के खिलाफ यह मामला 2001 में सरकारी नौकरशाहों के साथ कथित मारपीट करने और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए दर्ज है।

TOPPOPULARRECENT