अनिल अंबानी कर्ज की भरपाई के लिए मुंबई मुख्यालय को बेच या लीज पर दे सकते हैं: रिपोर्ट

अनिल अंबानी कर्ज की भरपाई के लिए मुंबई मुख्यालय को बेच या लीज पर दे सकते हैं: रिपोर्ट

भयंकर कर्ज तले दबे कारोबारी अनिल अंबानी मुंबई स्थित अपना हेडक्वॉर्टर बेचने की कोशिश में जुटे हैं। जानकारी के मुताबिक अंबानी मुंबई हेडक्वॉर्टर बेचने या इसे लंबे समय तक लीज पर देने के लिए ब्लैकस्टोन सहित कुछ वैश्विक निजी इक्विटी फर्मों से बातचीत कर रहे हैं।

हालांकि धन जुटाने की इस कोशिश में थोड़ी परेशानी भी हो सकती है। एनबीटी अखबार ने सूत्रों के हवाले से बताया कि जिस हेडक्वॉर्टर से अनिल अंबानी पैसा इकट्ठा करने में जुटे हैं, उसपर कानूनी विवाद भी है।

अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप (ADAG) की कई कंपनियां कर्ज न चुकाने के लिए कानूनी अड़चनों में हैं। मार्च 2018 तक, समूह का समेकित ऋण 1.72 ट्रिलियन रुपये था। मार्च 2019 तक के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर जैसी समूह की कंपनियां अभी तक Q4FY19 के लिए परिणाम घोषित नहीं कर सकी हैं जैसा कि पहले बिजनेस स्टैंडर्ड ने बताया था।

पिछले महीने, अनिल अंबानी ने कहा कि उनके समूह ने 1 अप्रैल, 2018 से 14 मई तक इस वर्ष 31 मई तक 35,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। इन भुगतानों में 24,800 करोड़ रुपये का मूल भुगतान और 10,600 करोड़ रुपये का ब्याज भुगतान शामिल है। समूह ने संपत्ति बेचकर धन जुटाया।

अंबानी ने कहा कि इस राशि में रिलायंस कैपिटल, रिलायंस पावर और रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर और उनके संबंधित सहयोगियों द्वारा ऋण सेवा भुगतान शामिल हैं। अंबानी ने एक कांफ्रेंस कॉल में कहा, “ये भुगतान असाध्य बाधाओं और देश में दशकों में सबसे चुनौतीपूर्ण वित्तीय माहौल का सामना करने के लिए किया गया है।”

Top Stories