Saturday , December 16 2017

अन्ना डीएमके का भविष्य अनिश्चित,ओपी सेल्वम मुख्यमंत्री तमिलनाडु

चेन्नई: जयललिता के पक्के वफादारी ओपी सेल्वम जिन्होंने मुख्यमंत्री तमिलनाडु के रूप में तीसरी बार शपथ ली है। पार्टी को एकजुट रखने की सबसे बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा है। जबकि पार्टी के करिश्माई नेता के बिना वह अपने अस्तित्व के प्रयास में है। चाय विक्रेता से राजनेता बने 65 वर्षीय पन्नीरसेल्व‌म कि ओ पी लोकप्रिय हैं दिवंगत जयललिता मुश्किल ” घड़ियों ” की साथी थी और भ्रष्टाचार के मामले में उन्हें सजा दिए जाने के बाद सेल्वम ने राज्य का नेतृत्व किया था।

मग़्मूम पन्नीर सेल्व‌म राजभवन में आज सुबह 11.15 बजे राज्यपाल सी एच विद्या सागर राव ने उन्हें मुख्यमंत्री पद और गोपनीयता की शपथ दिलवाए। इस अवसर पर सारा वातावरण शोक संतप्त था। जबकि उन्होंने अपनी जेब में जयललिता की तस्वीर रख कर यह शपथ ली। पन्नीर सेल्व‌म ने शपथ ग्रहण से पहले भावुक हो गए।

जयललिता की याद में भावुक हो गए जबकि वह एक लेफ्टिनेंट की तरह कमांडर (जयललिता) के आदेश का पालन करने और उच्च अधिकारियों के साथ एक अनुभवी नेता और टीम के खिलाड़ी की तरह काम करते हैं। नेतृत्व क्षमताओं उन्हें 2 बार कार्यकारी चीफ मिनिस्टर (सितम्बर 2011 और सितंबर 2014) बनाया गया। उन्होंने अपने जीवन की शुरुआत एक चाय बॉक्स किया।

उन्हें पहली बार विधानसभा में सफलता पर 2001 में मंत्री बनाया गया जिन्होंने बेहतर प्रदर्शन और वफादारी के स्रोत जयललिता का विश्वास हासिल कर लिया। जबकि 2011 में उन्हें वित्त मंत्री का प्रमुख काम‌ सौंपा। उनकी विनम्रता और विनम्रता के कारण सभी राजनीतिक दलों में लोकप्रिय हैं। इस साल अक्टूबर में जयललिता को अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाने के बाद उन्हें मुख्यमंत्री के सभी काम‌ सहित घर और पुलिस हवाले कर दिए गए।

TOPPOPULARRECENT