Thursday , December 14 2017

अनक़रीब 6 के बजाय 9 रियायती गैस सिलेंडर्स का ऐलान

नई दिल्ली, 12 दिसंबर:(पीटीआई) हुकूमत रियायती पकवान गैस (एल पी जी) सिलेंडरों की तादाद में फ़ी घराना मौजूदा सालाना 6 से इज़ाफ़ा करते हुए 9 सिलेंडर्स कर देगी, वज़ीर तेल एम वीरप्पा मोईली ने आज ये बात कही जिसका इलेक्शन कमीशन ने सख़्त नोट लिया और

नई दिल्ली, 12 दिसंबर:(पीटीआई) हुकूमत रियायती पकवान गैस (एल पी जी) सिलेंडरों की तादाद में फ़ी घराना मौजूदा सालाना 6 से इज़ाफ़ा करते हुए 9 सिलेंडर्स कर देगी, वज़ीर तेल एम वीरप्पा मोईली ने आज ये बात कही जिसका इलेक्शन कमीशन ने सख़्त नोट लिया और मर्कज़ से कहा कि इस इक़दाम को फ़ौरी तौर पर रोक दिया जाए।

इलेक्शन कमीशन ने वज़ीर तेल से इस तहदेद में इज़ाफ़ा के ताल्लुक़ से उनके ऐलान पर कल सुबह तक वज़ाहत भी तलब की है । रियायती एल पी जी की सरबराही को सालाना फ़ी घराना महिज़ 6 सिलेंडरों तक महिदूद कर देने के फैसले के सयासी नुक़्सान से ख़ाइफ़ मोईली ने वज़ीर फायनेंस पी चिदम़्बरम को मुतमईन कराया कि रियायती पकवान गैस सिलेंडरों की सरबराही पर हद लगाने से मुताल्लिक़ माह-ए-सितंबर के फैसले में तरमीम करने की ज़रूरत है।

मोईली ने यहां अख़बारी नुमाइंदों को बताया कि मेरे ख़्याल में इसमें इज़ाफ़ा होने का इमकान है, यक़ीनी तौर पर 6 सिलेंडरों से 9 सिलेंडर्स हो जाएंगे। 13 सितंबर के फैसला के मुताबिक़ हर घराना 14.2 kg के 6 एल पी जी सिलेंडर्स से 410.50 रुपये फ़ी सलिंडर की रियायती शरह पर इस्तिफ़ादा कर सकता है।

इसके आगे की ज़रूरत पर 931 रुपये फ़ी सिलेंडर की मार्केट शरह आइद होगी। मुल्क भर में सिर्फ़ 44 फ़ीसद घराने एक साल में 6 सिलेंडरों का इस्तेमाल करते हैं जबकि अक्सरियत 9 ता 12 सिलेंडर्स से इस्तिफ़ादा करती है। मोईली ने कहा कि इस हद में इज़ाफ़ा करने का फैसला काबीना की जानिब से बहुत जल्द किया जाएगा ।

उन्होंने कहा कि 6 सिलेंडरों तक सरबराही की हद क़ायम करने का फैसला काबीनी कमेटी बराए सयासी उमूर ने 13 सितंबर को किया था और इसमें इज़ाफ़ा का फैसला भी वही काबीनी पैनल की जानिब से किया जाएगा । मोईली ने कहा कि उन्होंने इस हद में इज़ाफे़ के लिए फैसले से मुरत्तिब होने वाले असर के बारे में वज़ीर फायनेंस चिदम़्बरम के साथ दो दौर की बात चीत की।

अगर इस हद को बढ़ाकर 9 सिलेंडर्स किया जाता है तो हुकूमत को सालाना 9,000 करोड़ रुपये की इज़ाफ़ी रक़म फ़राहम करनी पड़ेगी। हम इस ताल्लुक़ से ग़ौर-ओ-ख़ौज़ कर रहे हैं कि इज़ाफ़ी सब्सीडी की ज़रूरत की तकमील के लिए क्या तदाबीर इख्तेयार किए जाए। हम इससे बढ़ने वाले असर के अज़ाला के लिए कुछ फार्मूले पर काम कर रहे हैं।

ये पूछने पर कि आया हुकूमत इस हद में इज़ाफ़ा करने से क़बल गुजरात में इंतिख़ाबात ( चुनाव) ख़त्म होने का इंतेज़ार करेगी , उन्होंने कहा : नहीं । मोईली ने कहा अगर हम अभी ऐलान भी करते हैं तो इस का रियासती इंतिख़ाबात पर असर नहीं पड़ेगा क्योंकि आम तौर पर वो रियासत (इस फैसले पर अमल आवरी से) ख़ारिज रहेगी।

दरी असना मोईली के ऐलान का अज़ ख़ुद नोट लेते हुए इलेक्शन कमीशन ने हंगामी इजलास मुनाक़िद किया। कमीशन ने चीफ इलेक्शन कमिशनर वी एस संपत की ज़ेर ए सदारत अपनी मीटिंग में दो अलैहदा मुक्तो बात वज़ारत पेट्रोलीयम और क़ुदरती गैस और वज़ीर मौसूफ़ को फ़ौरी भेज दीए।

कमीशन ने वज़ारत को हिदायत दी कि इस इक़दाम को फ़ौरी तौर पर रोक दिया जाए, जो गुजरात असेंबली इंतिख़ाबात सै ऐन क़बल सामने आया और ऐसे वक़्त ऐलान किया गया कि वहां इंतिख़ाबी ज़ाबता अख़लाक़ नाफ़िज़ अल-अमल है, और इस मसला पर मोईली से वज़ाहत भी तलब की।

गुजरात चुनाव का पहला मरहला 13 दिसंबर को मुनाक़िद है और दूसरा और आख़िरी मरहला 17 दिसंबर को रहेगा। चूँकि इंतिख़ाबी ज़ाबता अख़लाक़ लागू है, इसलिए कमीशन ने सेक्रेटरी, वज़ारत पेट्रोलीयम और क़ुदरती गैस को मौसूमा अपने मकतूब में कहा कि वो हिदायत देता है कि रियायती गैस सिलेंडरों की सरबराही में मुबय्यना इज़ाफे़ के लिए इक़दाम अगर हो तो उसे कमीशन को वाक़िफ़ कराते हुए फ़ौरी असर के साथ लाज़िमन रोक देना चाहीए।

इलेक्शन कमीशन ने मोईली के नाम अपने मकतूब में कहा कि कमीशन ने आप के मुतज़क्किरा ऐलान का सख़्त नोट लिया है जबकि रियासत गुजरात में पोलिंग का पहला मरहला सिर्फ़ दो रोज़ दूर है, कमीशन चाहता है कि आप उसे मरहला पर अपने अमल की वज़ाहत करें।

इलेक्शन कमीशन ने वज़ीर मौसूफ़ की वज़ाहत कल सुबह 11 बजे तक मांगी है। ज़राए ने कहा कि मुजव्वज़ा इक़दाम की सूरत में वज़ारत फायनेंस को रवां मालीयाती साल 3,000 करोड़ रुपये की इज़ाफ़ी सब्सीडी फ़राहम करनी होगी।

TOPPOPULARRECENT