Sunday , December 17 2017

अपोज़ीशन जमातों के साथ गवर्नर का गैर दुरुस्त रवैय्या

गवर्नर की जानिब से अपोज़ीशन जमातों के हमराह इख़तियार करदा रवैय्या दुरुस्त नहीं है । गवर्नर को अपने रवैय्या में मुनासिब तबदीली लाते हुए जम्हूरियत (लोकतंत्र) की बक़ा के लिये इक़दामात (उपाय) करने चाहीए । डिप्टी फ़्लोर लीडर तेलगू द

गवर्नर की जानिब से अपोज़ीशन जमातों के हमराह इख़तियार करदा रवैय्या दुरुस्त नहीं है । गवर्नर को अपने रवैय्या में मुनासिब तबदीली लाते हुए जम्हूरियत (लोकतंत्र) की बक़ा के लिये इक़दामात (उपाय) करने चाहीए । डिप्टी फ़्लोर लीडर तेलगू देशम पार्टी मिस्टर पी अशोक गजपति राजू ने आज ज़राए इबलाग़ के नुमाइंदों से बात चीत करते हुए इन ख़्यालात का इज़हार किया । उन्हों ने बताया कि गवर्नर को अपने रवैय्या पर ग़ौर करना चाहीए आया वो वाक़ई जम्हूरियत (लोकतंत्र ) की बरक़रारी के लिये सरगर्म हैं ।

मिस्टर अशोक गजपति राजू ने कहा कि पहली मर्तबा ऐसा हुआ है कि गवर्नर से इंतिहाई अहम मौज़ू पर नुमाइंदगी के लिये वक़्त तलब किए जाने के तीन दिन गुज़रने के बावजूदता हाल मुलाक़ात के लिये वक़्त फ़राहम नहीं किया गया है ।

तेलगू देशम पार्टी क़ाइद ने बताया कि हुकूमत ने जमहूरी अंदाज़ में बर्क़ी बोहरान की सूरत-ए-हाल पर एहतिजाज करने वालों से निमटने का जो तरीका कार इख़तियार किया है वो जमहूरी तरीका नहीं है बल्कि ज़ालिमाना हरकतों के ज़रीया अवाम को एहतिजाज के हक़ से महरूम करने की कोशिश है ।

उन्हों ने गवर्नर आंधरा प्रदेश मिस्टर ई एस अल नरसिम्हन से अपील की कि वो अपोज़ीशन जमातों के मुताल्लिक़ अपने रवैय्या पर ग़ौर करें ताकि रियासत में जम्हूरियत (लोकतंत्र ) की बक़ा को यक़ीनी बनाया जा सके ।

TOPPOPULARRECENT