Friday , December 15 2017

अप्रसार देशों की एनएसजी सदस्यता पर मतभेद

बीजिंग: भारत को एनएसजी सदस्यता के लिए अमेरिका के दबाव का लिहाज़ किए बिना चीन ने आज कहा कि उच्च स्तरीय क्लब के सदस्यों में अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर न करने वाले देशों की सदस्यता के बारे में ” मतभेद बनाए ” हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में कोई चर्चा नहीं हुई। भारत और अन्य देशों की सदस्यता के बारे में वियना की बैठक में कोई फैसला नहीं किया गया। विदेश मंत्रालय चीन के प्रवक्ता Foxconn के ली ने अपने एक बयान में पिछले सप्ताह वियना बैठक का हवाला देते हुए कहा कि परमाणु प्रमुख प्रदाता समूह के वर्तमान अध्यक्ष अर्जेंटीना के राजदूत राफेल मीरियानो कौर ने एक गैर सरकारी बैठक 48 सदस्यीय समूह का 9 जून को तलब किया है।

अध्यक्ष ने कहा कि इस बैठक का कोई एजेंडा नहीं है और यह केवल विभिन्न पक्षों की राय एनएसजी उपयोग के बारे में मिल जाएगा और एक रिपोर्ट तैयार करेगा जो एनएसजी के प्लेनरी बैठक निर्धारित सियोल में चल रहे महीने के अंत में ( 24 जून) को प्रदान करेगा हालांकि वियना के राजनयिक सूत्रों ने कहा कि इससे पहले भारत की सदस्यता पर बैठक में चर्चा की गई और बातचीत गैर टर्मिनेटर रही। चीन का रुख है कि परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर न करने वाले देशों को एनएसजी में शामिल न किया जाए|

क्योंकि इस तरह प्रसार काउंटर के प्रयास प्रभावित होंगी। एनएसजी में भारत के प्रवेश पर समझौते को क़तईयत देने से पहले चीन ने व्यापक चर्चा की जरूरत पर जोर दिया जो शैली रचनात्मक हो। चीन ने नोट किया कि कुछ परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर न करने वाले देशों एनएसजी में शामिल होने में इच्छुक हैं और उनकी न्युक्लिय‌र अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर न करने वाले अन्य देशों के लिए उपयोग है।

चीन का यह अटल खड़े है कि समूह में प्रवेश से पहले व्यापक बहस होनी चाहिए। सहमति बनाया जाना चाहिए और आम सहमति के आधार पर ही समझौता होना चाहिए। न्युक्लिय‌र अप्रसार संधि राजनीतिक और कानूनी आधार प्रदान करता है ताकि अंतरराष्ट्रीय अप्रसार प्रणाली कुल मिलाकर उपयोगी बन सके। चीन का रुख सभी ऐसे देशों में लगाया होता जिन्होंने न्युक्लिय‌र अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं।

विदेश मंत्रालय चीन के प्रवक्ता ने कहा कि चीन पाकिस्तान की परमाणु वाणिज्यिक क्लब में शामिल होने के लिए समर्थन करता है। उन्होंने कहा कि तथ्य यह है कि कई देश इस समूह में चीन के रुख से सहमत हैं। वह चीन ‘न्यूजीलैंड’ आेयरलैंड ‘तुर्की’ दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रिया की ओर से भारत की एनएसजी सदस्यता पर आपत्ति कर चुके हैं और चीन के रुख से सहमत हैं। समूह में न्युक्लियर‌ अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर न करने वाले देशों को एनएसजी की सदस्यता देने के बारे में चर्चा हो चुकी हैं लेकिन सदस्यों इस मसले पर मतभेद रखते हैं।

TOPPOPULARRECENT