Sunday , December 17 2017

अफजल गुरु पर हुए कार्यक्रम की इजाज़त को रद्द करने पर कन्हैय्या ने जताया था ऐतराज़ : JNU रजिस्ट्रार

433605-kanhaiya-kumar

नई दिल्ली:जेएनयू रजिस्ट्रार भूपिंदर जुत्शी ने दावा किया है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी के खिलाफ विवादास्पद घटना के लिए अनुमति को रद्द करने पर आपत्ति जताई थी |

जुत्शी ने कुलपति एम जगदीश कुमार द्वारा गठित उच्च अधिकार प्राप्त समिति के सामने बयान दिया है कि
कन्हैया कुमार 9 फ़रवरी को हुए कार्यक्रम जिसमें कथित तौर पर राष्ट्र विरोधी नारे लगाए गये थे ,अधिकारीयों द्वारा इस कार्यक्रम की इजाज़त को रद्द करने के निर्णय के ख़िलाफ़ था |

जुत्शी ने समिति से कहा कि मैंने अपने ऑफिस में 9 फ़रवरी को दोपहर 3 बजे जेएनयूसू की बैठक बुलाई थी जिसमें जेएनयू द्वारा डिसेबल्ड (अशक्त )लोगों के लिए चलायी जा रही नई बस के रूट पर चर्चा की जा सके |
जिसमें कन्हैया कुमार और राम नागा (जेएनयूएसयू महासचिव) सबसे पहले पहुंचे 3pm के आसपास हमने बस रूट पर चर्चा की| 10 मिनट के बाद, सौरभ शर्मा (अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्य और जेएनयूसु संयुक्त सचिव) भी आये और हम सभी ने 10 मिनट तक बस रूट पर चर्चा की।

जुत्शी ने समिति से कहा कि शर्मा ने मुझे ‘अफजल गुरु की न्यायिक हत्या’ पर ‘सांस्कृतिक घटना’ के बारे में एक पम्फलेट दिखाया और कहा कि कुछ छात्र आज (9 फ़रवरी 2016) साबरमती ढाबे पर 5 बजे इस समारोह का आयोजन कर रहे हैं |

रजिस्ट्रार आगे कहा है कि जब विश्वविद्यालय ने इसे रद्द करने के फैसले को वापस ले लिए है, कन्हैया ने इसे रद्द करने पर ऐतराज़ जताया था |

जेएनयू ने इस विवादास्पद घटना की जांच के लिए 10 फरवरी को एक अनुशासन समिति का गठन किया गया है। प्रारंभिक जांच के आधार पर रिपोर्ट कन्हैया सहित आठ छात्रों को अकादमिक वंचित कर दिया गया।

पांच सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए दो एक्सटेंशन दी गई है 11 मार्च तक अपनी सिफारिशें साथ आने की उम्मीद है। शुरुआत जांच रिपोर्ट के आधार पर कन्हैया सहित आठ छात्रों को अकादमिक वंचित कर दिया गया है ।

पांच सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए और वक़्त माँगा है इसकी सिफारिशें 11 मार्च तक आने की उम्मीद है।

कन्हैय्या समेत सभी छात्रों ने समिति की मांग को मानने से इनकार कर दिया है उन्होंने कहा है कि समिति ने शुरुआत जांच रिपोर्ट में छात्रों से कोई पूछताछ नहीं की गयी है |

छात्रों ने समिति द्वारा नए सिरे से जाँच करवाने की मांग की है विश्विद्यालय ने इस सम्भावना से इनकार किया है |

जुत्शी ने आरोप लगाया कि इस मुद्दे को मिसहैंडलिंग करने के लिए छात्रों और शिक्षकों के एक वर्ग ने आलोचना भी की है|

TOPPOPULARRECENT