अफसर पैसे मांगें तो उनकी फोटो मुझे व्हाट्सएप कर दीजिए: मनीष सिसोदिया

अफसर पैसे मांगें तो उनकी फोटो मुझे व्हाट्सएप कर दीजिए: मनीष सिसोदिया
Click for full image

नई दिल्ली। “रेड के नाम पर व्यापारियों का शोषण नहीं होने दिया जाएगा। अगर कोई अधिकारी आपके यहां रेड करता है और पैसे मांगता है तो उसकी फोटो ले लें और मुझे व्हाट्स एप कर दें । ऐसे किसी आदमी को मैं नहीं छोड़ूंगा।”

दिल्ली के व्यापारियों को संबोधित करते हुए दिल्ली सरकार के उप-मुख्यमंत्री व वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने यह बात कही। व्यापारियों को अपना व्हाट्स एप नंबर साझा करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे पता चला है कि कुछ अधिकारी व्यापारियों के यहां जाकर रेड करते हैं और त्योहारों के नाम पर पैसे मांगते हैं। मुझे नहीं पता कि कितना सच है लेकिन अगर कोई ऐसा कर रहा है तो उसकी जानकारी आप मुझे दे दीजिए।

सिसोदिया ने कहा, “हमने विभाग को लिखित तौर निर्देश दिया है कि दीवाली तक किसी व्यापारी के दफ्तर या दुकान पर सर्वे के लिए कोई अधिकारी नहीं जाएगा। इसका मतलब ये नहीं है कि कोई टैक्स की चोरी करेगा तो उसे छोड़ दिया जाएगा। हमें टैक्स भी इकट्ठा करना है। टैक्स की चोरी करने वालों पर कार्रवाई भी करनी है। लेकिन सर्वे करने के नाम पर व्यापारियों का शोषण नहीं होने देंगे। व्यापारियों से अनुरोध है कि अब सब कुछ ऑनलाइन हो गया है। आप अपनी जरूरी सूचनाएं ऑनलाइन भरिये। ईमानदारी से टैक्स चुकाइए। आपको परेशान नहीं होने दिया जाएगा।”

उप मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि उन्हें यह भी सूचना मिली थी कि कुछ अधिकारी, कुछ व्यापारियों के पास गये और ये कहा कि चुनाव आने वाले हैं और सरकार चलाने वालों को पैसों की जरूरत है, इसलिए वे आए हैं। मैं यहां यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि हमें रेड डलवाकर चुनाव के लिए एक भी पैसा नहीं चाहिए। हम घर-घर जाकर चुनाव के लिए 100-100 रुपये का चंदा इकट्ठा कर रहे हैं। इसलिए अगर कोई अधिकारी आपसे ऐसा कुछ कहता है तो उसे एक भी रुपये मत दीजिए। उसका फोटो मुझे व्हाट्स एप कर दीजिए।

व्यापारियों के साथ एक आंकड़ा साझा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि अप्रैल से लेकर अब तक 110 सर्वे किये गये जिनमें केवल एक व्यापारी के यहां 72 लाख रुपये के टैक्स का मामला पाया गया। बाकी में बहुत छोटी-छोटी राशियों के मामले मिले। इसे देखते हुए विभाग को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि खासकर त्योहारों के मौसम में जब व्यापारियों का पूरा ध्यान अपने व्यापार पर होता है और उनके यहां विभाग की कोई टीम सर्वे के लिए नहीं जाएगी।

एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर में व्यापारियों को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि हमारा मानना है कि रेड डालने और टैक्स के रेट ज्यादा रखने से टैक्स का कलेक्शन ज्यादा नहीं होता। और हमने ऐसा करके दिखाया है।

वित्त मंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने व्यापारियों से भी अनुरोध किया कि पिछले वित्त वर्ष में नवंबर में टैक्स कलेक्शन की ग्रोथ रेट 13.29 फीसदी और दिसंबर की 27 फीसदी रही थी। आप लोग ईमानदारी से काम कीजिए और टैक्स जमा कराइये। मुझे उम्मीद है कि इससे टैक्स कलेक्शन में काफी बढ़ोतरी होगी। इससे बिलकुल साफ हो जाएगा कि व्यापारियों को रेड के नाम पर परेशान करने से नहीं बल्कि सहूलियत के साथ काम करने का मौका देने से टैक्स कलेक्शन बढ़ता है।

Top Stories