Tuesday , December 12 2017

अफ़्ग़ानिस्तान में पाकिस्तान को मुश्तइल करना हिंदुस्तान का मक़सद नहीं

हिंदुस्तान चाहता है कि पाकिस्तान को अफ़्ग़ानिस्तान में जंगी नुक़्ता-ए-नज़र से गहराई ना मिलने पाए और यक़ीनी होजाए कि वहां अपने मफ़ादात पर हमला ना हो लेकिन उसे कोई बड़ा स्कियोरटी रोल अदा करते हुए ईस्लामाबाद के जज़बात को मुश्तइल कर

हिंदुस्तान चाहता है कि पाकिस्तान को अफ़्ग़ानिस्तान में जंगी नुक़्ता-ए-नज़र से गहराई ना मिलने पाए और यक़ीनी होजाए कि वहां अपने मफ़ादात पर हमला ना हो लेकिन उसे कोई बड़ा स्कियोरटी रोल अदा करते हुए ईस्लामाबाद के जज़बात को मुश्तइल करने में शायद कोई दिलचस्पी है, कांग्रेस की एक रिपोर्ट ने ये बात कही, और काबुल की जानिब से अपने दो कलीदी पड़ोसीयों से निमटने को नाज़ुक मुतवाज़िन अमल क़रार दिया है।

ये रिपोर्ट कांग्रेशनल रिसर्च सरविस (सी आर ऐस) ने तैय्यार की जो अमरीकी कांग्रेस का आज़ाद तहक़ीक़ाती शोबा है, और वक़फ़ा वक़फ़ा से रिपोर्टस पेश करते हुए कांग्रेस अरकान को मोतबर फ़ैसले करने में मदद देता है, नीज़ तफ़सील से बताता है कि किस तरह इस मुलक में हिंदुस्तान की सरगर्मीयां पाकिस्तान के बरकिलाफ हैं

और किस तरह नई दिल्ली तालिबान के साथ मुसालहाना कोशिशों से ख़ाइफ़ है।अफ़्ग़ानिस्तान ने हिंदुस्तान से क़रीबी रवाबित चाहे हैं लेकिन पाकिस्तान को तशवीश में मुबतला किए बगै़र: जो अमरीकी सरपरस्ती में जारी नाज़ुक मुतवाज़िन इक़दाम है।

TOPPOPULARRECENT