अफ़्ग़ानिस्तान में बर्तानिया की बरक़रारी का मुआहिदा

अफ़्ग़ानिस्तान में बर्तानिया की बरक़रारी का मुआहिदा

काबुल 31 जनवरी (ए एफ़ पी) अफ़्ग़ानिस्तान और बर्तानिया ने 2014 के बाद तआवुन जारी रखने पर इत्तिफ़ाक़ कर लिया है और दोनों ममालिक के दरमयान मुआहिदे पर दस्तख़त भी होगए हैं। वज़ीर-ए-आज़म बर्तानिया का कहना है कि तमाम नाटो ममालिक ने अफ़्ग़ान

काबुल 31 जनवरी (ए एफ़ पी) अफ़्ग़ानिस्तान और बर्तानिया ने 2014 के बाद तआवुन जारी रखने पर इत्तिफ़ाक़ कर लिया है और दोनों ममालिक के दरमयान मुआहिदे पर दस्तख़त भी होगए हैं। वज़ीर-ए-आज़म बर्तानिया का कहना है कि तमाम नाटो ममालिक ने अफ़्ग़ानिस्तान से 2014 तक निकलने का मुआहिदा भी कर लिया है, उन्हों ने कहा कि तख़लिया के बाद अफ़्ग़ानिस्तान के साथ तआवुन जारी रखा जाएगा।

सदर अफ़्ग़ानिस्तान हामिद करज़ई के साथ मुलाक़ात में वज़ीर-ए-आज़म बर्तानिया का कहना था कि अफ़्ग़ानिस्तान के साथ तवील मुद्दत शराकतदारी और ताल्लुक़ात जारी रखे जाऐंगे क्यों कि दहश्तगर्दी से पाक, मुस्तहकम और महफ़ूज़ अफ़्ग़ानिस्तान दुनिया के मुफ़ाद में है। उन्हों ने कहा कि अफ़्ग़ानिस्तान से ग़ैर मुल्की अफ़्वाज की तादाद में कमी का इन्हिसार अफ़्ग़ानफ़ौज की जानिब से इलाक़े का कंट्रोल सँभालने पर मुनहसिर है।

इस मौक़ा पर सदर अफ़्ग़ानिस्तान हामिद करज़ई ने कहा कि बर्तानिया अफ़्ग़ानिस्तान का दस साल से बेहतरीन दोस्त है और इस ने अफ़्ग़ानिस्तान के लिए क़ुर्बानियां दी हैं जिस की वो क़दर करते हैं। उन्हों ने कहा कि अफ़्ग़ानिस्तान और बर्तानिया के दरमयान होने वाले मुआहिदे से मुस्तक़बिल में अफ़्ग़ानिस्तान की जमहूरीयत को फ़ायदा पहुंचेगा।

Top Stories