Wednesday , September 26 2018

अफ़्ग़ान शोरिश पसंदों का सरकारी इमारत पर हमला

काबुल । 11 जनवरी (ए पी) तालिबान शोरिश पसंदों ने आज मशरिक़ी अफ़्ग़ानिस्तान में एक सरकारी इमारत में ज़बरदस्ती दाख़िल होने की कोशिश की और फायरिंग का तबादला हुआ , जिस की वजह से कम अज़ कम एक शख़्स हलाक होगया। अफ़्ग़ानिस्तान के सूबा पकती

काबुल । 11 जनवरी (ए पी) तालिबान शोरिश पसंदों ने आज मशरिक़ी अफ़्ग़ानिस्तान में एक सरकारी इमारत में ज़बरदस्ती दाख़िल होने की कोशिश की और फायरिंग का तबादला हुआ , जिस की वजह से कम अज़ कम एक शख़्स हलाक होगया। अफ़्ग़ानिस्तान के सूबा पकतीका के सरबराह पुलिस जनरल दौलत ख़ान ज़दरान ने कहा कि 4 शोरिश पसंदों ने शारान के इलाक़ा में एक सरकारी इमारत पर क़बज़ा करने की कोशिश की।शारान सूबा पकतीका का दार-उल-हकूमत है और क़ौमी दार-उल-हकूमत काबुल के जुनूब में तक़रीबन160 केलो मीटर के फ़ासिला पर वाक़्य है।

हमला आवर और दो मुलाज़मीन पुलिस बाद में फायरिंग के तबादला में हलाक होगए। तालिबान ने इस हमला की ज़िम्मेदारी क़बूल करते हुए कहा कि इस में उन के कई एहदाफ़ थे। सहाफ़ीयों को ई मेल के ज़रीया रवाना करदा पैग़ाम में अफ़्ग़ान तालिबान के तर्जुमान ज़बीह-उल-ल्लाह मुजाहिद ने कहा कि सरकारी दफ़्तर, सुबाई तामीर जदीद की टीम और महिकमा सुराग़ रसानी का हेडक्वार्टर्स तमाम पर हमले किए गए। ताहम सुबाई पुलिस सरबराह ज़दरान ने कहा कि हमला सिर्फ एक इमारत तक महिदूद था।

सूबा पकतीका पाकिस्तान की सरहद से मुत्तसिल है और तालिबान जनगजोॶं की अहम शाहराहों में से एक है जो अपनी सरहद पार महफ़ूज़ पनाह गाहों से अफ़्ग़ानिस्तान की सरहदों में दरअंदाज़ी करते हैं। ये अलक़ायदा से रवाबित रखने वाली अस्करीयत पसंद तंज़ीम हक़्क़ानी नैटवर्क का भी एक मुस्तहकम गढ़ है, जिस पर कई ज़बरदस्त हमलों का इल्ज़ाम बशमोल काबुल में ख़ुदकुश बम धमाकों का इल्ज़ाम आइदकिया जाता है। दीगर मुक़ाम पर अफ़्ग़ानिस्तान और नाटो अफ़्वाज के मुत्तहदा धावे में 7 मुश्तबा शोरिश पसंद हलाक और दीगर 30 गिरफ़्तार होगए।

फ़ौज के ब्यान में छापामार जनगजो में राकेट के ज़रीया फेंके जाने वाले दस्ती बम हमले और हल्के असलाह से फ़ौज पर फायरिंग की थी। देसी साख़ता धमाको आलात , बम , हथियार और गोला बारूदज़बत किया गया। सूबा कोनार में भी एक धमाका से दो अफ़्ग़ान फ़ौजी हलाक , 6 नाटो फ़ौजी और 4 शहरी हलाक होगए।

TOPPOPULARRECENT