Tuesday , December 12 2017

अबदुलकरीम टंडा पर अदालत में हिंदू सेना कारकुन का हमला

श्कर-ए-तयबा के मुबय्यना कारकुन और माहिर बम साज़ अबदुलकरीम टंडा को पुलिस की जानिब से अदालत में पेशकशी के मौक़े पर हिंदू सेना के एक कारकुन ने उस पर हमला कर दिया।

श्कर-ए-तयबा के मुबय्यना कारकुन और माहिर बम साज़ अबदुलकरीम टंडा को पुलिस की जानिब से अदालत में पेशकशी के मौक़े पर हिंदू सेना के एक कारकुन ने उस पर हमला कर दिया।

हमलाआवर ने जो इंतिहापसंद हिंदू तंज़ीम हिंदू सेना का कारकुन बताया गया है, 70 साला अबदुलकरीम टंडा के पेट पर वार किया जो दरअसल इस मुश्तबा दहशतगर्द के चेहरा पर तमांचा रसीद करने की कोशिश कररहा था, लेकिन टंडा की हिफ़ाज़त के लिए मुतय्यन पुलिस ने इस कोशिश को नाकाम बनादिया।

मुल्ज़िम को मेट्रो पोलीटन मजिस्ट्रेट जय थरेजा के इजलास पर पेश किया गया, जिन्होंने कैमरा फ़िल्मबंदी के साथ कार्रवाई चलाने का फ़ैसला किया। एक वकील ने अवाम से खचाखच भरे अदालत के कमरे में टंडा के ख़िलाफ़ नारे बाज़ी शुरू करदी, जिसके नतीजे में वहां कुछ देर के लिए अफ़रातफ़री व धक्कम पेल के मुनाज़िर देखे गए। दिल्ली पुलिस ने मुबय्यना दहशतगर्दों से राबतों के बारे में पूछगिछ के लिए टंडा को 10 दिन के लिए अपनी तहवील में देने की दरख़ास्त की, लेकिन अदालत ने पुलिस को सिर्फ़ चार दिन की तहवील में दिया। टंडा मफ़रूर अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इबराहीम का मुबय्यना क़रीबी साथी और एक माहिर बम साज़ बताया गया है।

19 साल तक मुख़्तलिफ़ मुक़ामात में रुपोश रहा था और हाल ही में हिंद – नेपाल सरहद पर गिरफ़्तार किया गया था। टंडा भी इन 20 दहशतगर्दों में शामिल है जिस को 26/11 मुंबई दहशतगर्द हमलों के ज़िमन में हकूमत-ए-पाकिस्तान से हिंदुस्तान ने अपने हवाले करने का मुतालिबा किया था। शुबा किया जाता है कि वो बम हमलों के 40 वाक़ियात में मुलव्वस है और गिरफ़्तारी के ज़िमन में मतलूब अफ़राद में सर-ए-फ़हरिस्त है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक़ अबदुलकरीम टंडा 1993 के मुंबई सिलसिलेवार ट्रेन धमाकों, 1997-98 के दिल्ली बम धमाकों और उत्तरप्रदेश में सिलसिलेवार बम धमाकों के इलावा पानीपत, सोनीपत-ओ-हैदराबाद धमाकों के ज़िमन में भी मतलूब था।

TOPPOPULARRECENT