अबू धावी की मुबाडाला कंपनी जियो में करेगी 9,093 करोड़ रुपये का निवेश

अबू धावी की मुबाडाला कंपनी जियो में करेगी 9,093 करोड़ रुपये का निवेश

टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जियो में एक और विदेशी कंपनी निवेश करने जा रही है। अबू धाबी की मुबाडाला इंवेस्टमेंट कंपनी जियो में 9,093 करोड़ रुपये का निवेश करने जा रही है, जिसके बदले में कंपनी जियो में 1.85 फीसदी की हिस्सेदार बन जाएगी। यह जियो में पिछले छह हफ्तों में छठां बड़ा विदेशी निवेश है।

इधर जियो में निवेश को लेकर कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक ने खुशी जताई है। एक बयान में मुकेश अंबानी ने कहा कि मुबाडाला और जियो के एक साथ काम करने पर दुनिया में भारत निश्चित तौर पर सबसे बड़ा डिजिटल देश बनने की राह पर चल रहा है।
मुकेश अंबानी ने आगे कहा कि उन्होंने अबू धाबी के साथ अपने लंबे समय के संबंधों के जरिए व्यक्तिगत रूप से मुबाडाला के काम के प्रभाव को देखा है। उनका कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि कंपनी को मुबाडाला के अनुभव से फायदा होगा।

इससे पहले हाल ही में केकेआर, फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्टा, जनरल अटलांटिक ने रिलांयस जियो में निवेश किया था। इन पांचों कंपनियों ने संयुक्त रूप से कुल 78,562 करोड़ रुपये का निवेश किया था। अब मुबाडाला के नौ हजार करोड़ से ज्यादा के निवेश के बाद निवेश की कुल निवेश 87,655 करोड़ रुपये की हो गई है।

मुबाडाला इन्वेस्टमेंट कंपनी के प्रबंध निदेशक और ग्रुप सीईओ खलादून अल मुबारक ने कहा कि उनकी कंपनी उच्च विकास वाली कंपनियों के साथ काम करने और उनमें निवेश करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि हमने देखा है कि कैसे जियो ने भारत में संचार और कनेक्टिविटी को पहले से बदल दिया है।

खलादून ने कहा कि एक निवेशक और भागीदार के तौर पर हम भारत की डिजिटल विकास यात्रा का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। जियो के निवेशकों और भागीदारों के नेटवर्क के साथ हमें विश्वास है कि कंपनी डिजिटल अर्थव्यवस्था के विकास को आगे बढ़ाएगी।

रिलायंस में हिस्सेदारी बेचने से मार्च 2021 तक रिलांयस पहली कंपनी बन जाएगी जिस पर कोई ऋण नहीं होगा। वहीं बीते मार्च तक रिलायंस कंपनी का कुल ऋण 1.61 लाख करोड़ रुपये था।

 

Top Stories