अब नहीं करेंगे सऊदी अरब पर हमला, शांति प्रक्रिया को देंगे बढ़ावा- हौती विद्रोही

अब नहीं करेंगे सऊदी अरब पर हमला, शांति प्रक्रिया को देंगे बढ़ावा- हौती विद्रोही

यमन के हौती विद्रोहियों का कहना है कि वे शांति प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए सऊदी अरब में रॉकेट हमले रोक देंगे।हौथी विद्रोहियों का कहना है कि सऊदी अरब पर मिसाइल हमले पश्चिमी समर्थित समर्थित गठबंधन द्वारा यमन पर हवाई हमले के प्रति प्रतिशोध में थे।

हौती विद्रोहियों ने आरोप लगाया है कि जो अब्द-रब्बू मंसूर हादी की सऊदी समर्थित सरकार को बहाल करने की कोशिश के लिए पश्चिमी ताकतों द्वारा यमन को युद्ध में झोक दिया गया था।

यमन के हौती विद्रोहियों नेसोमवार को कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र की मांग के जवाब में सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और उनके सहयोगियों पर ड्रोन और मिसाइल हमलों को रोक रहा है।

यमन में चल रहे गृह युद्ध के चलते 10,000 से अधिक लोगों की हत्या कर दी गई है और इस युद्ध ने देश को भुखमरी के कगार पर धकेल दिया है। सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन के इस युद्ध से पीछे हटने के बाद यमन के विद्रोहियों ने ये घोषणा की है।

पत्रिका पर छपी खबर के अनुसार, हौथी विद्रोहियों ने एक बयान में कहा, “दूतावास के साथ हमारे संपर्कों के बाद तथा ड्रोन और मिसाइल हमलों को रोकने के उनके अनुरोध के बाद हम अपनी पहल की घोषणा करते हैं। हौती क्रांतिकारियों की सर्वोच्च संस्था के प्रधान मोहम्मद अली अल-हौती ने एक बयान में ये बात कही।

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफिथ्स सितंबर के बाद सभी पक्षों के साथ शांति वार्ता करने की कोशिश कर रहे थे। अब यमन की लगभग सभी पार्टियों ने “दृढ़ आश्वासन” दिया है, वे जल्द ही आयोजित होने वाली शांति वार्ता में भाग लेने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

ग्रिफिथ्स ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को बताया कि जरुरत पड़ने पर इस बारे में आगे और भी प्रयास किए जाएंगे। ईरानी-गठबंधन समर्थित हौती समूह जो लगभग चार वर्षों तक सऊदी समर्थित सरकार से जूझ रहा है, ने कहा कि अगर सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन शांति चाहते हैं तो सभी को व्यापक युद्धविराम के लिए तैयार रहना पड़ेगा।

Top Stories