Tuesday , June 19 2018

अब हम भी एक ममलकत रखते हैं :महमूद अब्बास

सदर फ़लस्तीन महमूद अब्बास ने अपने हामीयों से ख़िताब करते हुए कहा कि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा में फ़लस्तीन को ग़ैर रुकन मुबस्सिर ममलकत का दर्जा मिलने के बाद अब हम भी एक ममलकत रखने वाले शहरी बन गए हैं ।

सदर फ़लस्तीन महमूद अब्बास ने अपने हामीयों से ख़िताब करते हुए कहा कि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा में फ़लस्तीन को ग़ैर रुकन मुबस्सिर ममलकत का दर्जा मिलने के बाद अब हम भी एक ममलकत रखने वाले शहरी बन गए हैं ।

हमारे पास भी एक मुलक है जिस को तरक़्क़ी देना हमारा फ़रीज़ा है । न्यूयार्क में अक़वाम-ए-मुत्तहिदा कि मीटिंग के बाद महमूद अब्बास फ़लस्तीन पहुंचे जहां उन का हीरो की तरह इस्तिक़बाल किया गया ।

रमला में उन की वापसी पर जश्न का माहौल था । अवाम से उन्होंने कहा कि फ़लस्तीनीयों के लिए ये मुक़ाम हासिल करने तवील जद्द-ओ-जहद करनी पड़ी ।

उस की ख़ातिर अवाम को शदीद दबाव बर्दाश्त करना पड़ा। इस के बावजूद अवाम साबित क़दम रहे और कामयाब हुए। ग़ाज़ा के इलाके पर हम्मास का कंट्रोल है जबके रमला और मग़रिबी किनारा पर फ़तह का ग़लबा है ।

इस लिए फ़लस्तीनी अवाम महमूद अब्बास की जमात फ़तह और जंगजू ग्रुप हम्मास के दरमयान मुनक़सिम हैं। फ़लस्तीन को ममलकत का दर्जा मिलने के बाद इसराईल नाराज़ होगया है ।

इस ने फ़लस्तीनीयों को दिये जाने वाले 11.5 मुलैय्यन डालर को रो कदीने का फ़ैसला किया है । अक़वाम-ए-मुत्तहिदा में अपनी बदतरीन हज़ीमत के बाद मक़बूज़ा इलाक़ों में नई बस्तीयां तामीर करने का एलान क्या ।

इस साल फ़लस्तीनीयों के लिए जो टैक्स वसूल किया गया है उसे वापिस करने से भी इनकार किया । वज़ीर-ए-ख़ारजा इसराईल यवील अस्सिटैंटज़ ने कहा कि टैक्स की शक्ल में वसूल की जाने वाली रक़म तक़रीबन 12 करोड़ डालर होगी जिस का इस्तिमाल फ़लस्तीनी इंतिज़ामीया के क़र्ज़ की अदायगी केलिए किया जाएगा ।

इसराईली काबीना ने मुत्तफ़िक़ा तौर पर फ़ैसला किया है कि वो फ़लस्तीन को दीए गए मौक़िफ़ को क़बूल नहीं करती और अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के फ़ैसले को मुस्तर्द करती है । अक़वाम-ए-मुत्तहिदा जनरल असैंबली का ये फ़ैसला फ़लस्तीनी अथॉरीटी के साथ मुस्तक़बिल की मुज़ाकरात की बुनियाद नहीं बन सकता ।

वज़ीर-ए-ख़ारजा इसराईल ने कहा कि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा में फ़लस्तीन की कोशिशें इश्तिआल अंगेज़ी के मुतरादिफ़ है । इसराईल को तस्लीम किए बगै़र फ़लस्तीन को ममलकत का दर्जा देने की कोशिश सलामती के लिए मज़ीद ख़तरह बनेगी ।

TOPPOPULARRECENT